अब पसीने की बूंद की जांच से पता चलेगा नींद और तनाव के बारे में!

हमारे देश में मेक इन इंडिया के तहत देश में छोटी-छोटी लेवोनिस डिवाइस चिप तैयार की जा रही हैं। जिसकी मदद से इंसान की बीमारी का पता बहुत पहले से ही लगाया जा सकता है

  • देश की सुरक्षा में लगे जवानों की पसीने की एक बूंद डालकर आप उनकी क्षमता का पता भी लग सकेगा। यही नहीं लोगों के तनाव और नींद के बारे में भी इससे पता लग सकेगा।
  • यह कहना था आईआईटी रुड़की से आए एक प्रोफ़ेसर का। वह शुक्रवार को एमआईटीएस कॉलेज में मैकेनिकल एवं ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग विभाग द्वारा एडवांसेस इन मैन्युफैक्चरिंग सिस्टम विषय पर आयोजित सात दिवसीय शॉर्ट टर्म ट्रेनिंग प्रोग्राम को खुद संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वाहन चलाते समय नींद आने का अनुमान भी एक बूंद पसीना डालकर डिवाइस से आसानी से पता लगाया जा सकेगा।
  • उन्होंने कहा कि आज के दौर में तेजी से मैन्युफैक्चरिंग पद्धति को बदला जा रहा है। जिसका कारण है सभी कंपनियां तेजी से मार्केट में अपने आप को स्थापित करना चाहती हैं और कुछ नया करने का प्लान भी करती हैं।
  • इसका सीधा फायदा लोगों को मिलता है। उन्होंने कहा कि एबीएस एक ऐसा मटेरियल है जो शरीर के किसी भी भाग के चोटिल होने पर लेजर के रूप में प्रयोग किया जा सकता है, जो मनुष्य को अंग की भांति महसूस होता है।