तो 10 से 11 हो जायेगी मौजूदा मोबाइल नंबर्स में अंकों की संख्या, ट्राई ने की नई सिफारिशें

टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) ने नई सिफारिशें की है। जिनमें लैंडलाइन और मोबाइल सेवाओं के लिए ‘यूनिफाइड नंबरिंग प्लान’ जारी किया जाना भी शामिल है। इस सिफारिश के अनुसार लैंडलाइन से मोबाइल नंबर पर फोन करने से पहले उपभोक्ताओं को जीरो (0) लगाना अनिवार्य होगा। ट्राई ने मौजूदा मोबाइल नंबर्स में अंकों की संख्या 10 से 11 करने का भी सुझाव रखा है। इस सिफारिश के लागू होने से 10 अरब मोबाइल नंबर प्रभावित होंगे।

फिलहाल लैंडलाइन से मोबाइल पर फोन करने के लिए जीरो लगाने की जरुरत नहीं होती है। ट्राई ने डोंगल के लिए वितरित मोबाइल नंबरों की संख्या को 13 अंकों में बदलने की सिफारिश भी की है। साथ ही लैंडलाइन के लिए आई सिफारिश में फिक्स्ड लाइन नंबरों को 2 या 4 के सब-लेवल पर ले जाना भी शामिल है। आपको बता दे कुछ दिन पहले कुछ ऑपरेटर्स ने 3, 5 और 6 से शुरू होने वाले नंबरों से नए लैंडलाइन कनेक्शन जारी किये थे, जो अब सेवा में नहीं है।

देश में कम ब्रॉडबैंड कनेक्शन के लिए ट्राई ने दूर संचार विभाग को जिम्मेदार माना है। इसके लिए ट्राई ने प्रधानमंत्री कार्यालय में दूरसंचार विभाग की शिकायत भी दर्ज कराई है। जिसमें कहा गया है कि दूरसंचार विभाग ब्रॉडबैंड की संख्या बढ़ाने के मामले में काफी अनदेखी कर रहा है। आपकी जानकारी के लिए बता दे देश में अभी तक इंटरनेट यूजर्स की संख्या 50 करोड़ का आंकड़ा पार कर चुकी है। वही लैंडलाइन ब्रॉडबैंड के मामले में यह संख्या मात्र दो करोड़ है।

यह भी पढ़े: अब काला कोट नहीं बल्कि PPE किट पहने हुए नजर आएंगे टीटीई, रेलवे ने जारी किये निर्देश
यह भी पढ़े: इंडिया नहीं बल्कि देश को भारत या हिंदुस्तान के नाम से जाना जाये, 2 जून को SC में होगी सुनवाई

Loading...