Breaking News
Home / ट्रेंडिंग / Odd-Even लागू होने से पहले जानिए ये जरूरी बातें, नियमों में हुआ बदलाव

Odd-Even लागू होने से पहले जानिए ये जरूरी बातें, नियमों में हुआ बदलाव

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से ऑड-ईवन स्कीम 4 से 15. नवंबर तक लागू रहेगी। प्रत्येक दिन यह योजना 12 घंटे के लिए लागू होगी जो सुबह 8 बजे से शुरू होगी और रात्रि 8 बजे तक चलेगी।

Loading...

सम संख्या वाले वाहनों को सड़कों पर समान दिनों में चलने की अनुमति है और विषम संख्या वाले लोगों को विषम-संख्या वाले दिनों में चलाया जा सकता है। आम आदमी पार्टी( AAP ) प्रमुख ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि यह योजना उनके सहित दिल्ली के सभी मंत्रियों पर लागू होगी और इस कानून का उल्लंघन करने वालों को 4,000 रुपये का जुर्माना भी देना होगा। जबकि सम-विषम योजना रविवार (10 नवंबर) को लागू नहीं होगी, इस अवधि के दौरान यह अन्य राज्यों से आने वाले सभी वाहनों पर लागू होगी। हालांकि, यह योजना केवल चार पहिया वाहनों तक ही सीमित रहेगी और दोपहिया वाहनों को छूट दी गई है।

सिर्फ कुछ लोगों को मिलेगी इस नियम से राहत

इस बीच कई ऐसे लोग भी हैं जिन्हें केजरीवाल द्वारा बनायीं गई योजना का पालन करने से छूट दी गई है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति, राज्यपालों, सीजेआई, केंद्रीय मंत्रियों और अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों को योजना का पालन करने से छूट दी गई है। न्यायाधीश, चुनाव आयुक्त, भारत के नियंत्रक महासभा, राज्यसभा के सभापति, लोकसभा के उपसभापति, एलजी, उच्च न्यायालय के न्यायाधीश और लोकायुक्त को भी सम-विषम नियम का पालन करने से छूट दी गई है। किसी भी प्रवर्तन वाहन, एम्बुलेंस, सेना, अर्ध-सैन्य बल, पायलट, दूतावास के कर्मी, और एसपीजी कवर वाहनों को इस नियम से छूट दी गई है। महिला, सुरक्षा अधिकारी, स्कूल वर्दी में बच्चों के साथ वाहन, विकलांग व्यक्ति और चिकित्सा आपात स्थिति वाले लोगों को भी नियम का पालन करने की आवश्यकता नहीं होगी।

यदि आप उपरोक्त श्रेणियों में से किसी के अंतर्गत नहीं आते हैं, तो आपको 4 से 15 नवंबर तक दिल्ली में ऑड-ईवन नियम का पालन करना होगा। वास्तव में, निजी स्वामित्व वाले सीएनजी वाहनों को भी इस बार नियम का पालन करना होगा। फसल जलने के कारण वायु प्रदूषण के चरम स्तर को रोकने के लिए सम-विषम योजना शुरू की जाएगी। राष्ट्रीय राजधानी के कई हिस्सों में हवा की गुणवत्ता पहले से “बहुत खराब” श्रेणी में पहुंच गई है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *