उत्तर कोरिया में कोरोना से हाहाकार, पहली बार इतनी अधिक तबाही मचा रहा ओमिक्रॉन

उत्तर कोरिया कोरोना वायरस की अब तक सबसे बुरी मार झेल रहा है। नॉर्थ कोरियाई नेता किम जोंग उन ने खुद यह बयान दिया है। रिपोर्ट के अनुसार, किम ने कहा कि देश को कोरोनो रोधी उपायों को लागू करने पर ध्यान देना चाहिए और बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए उन्हें बढ़ावा देना चाहिए।

केसीएनए समाचार एजेंसी के अनुसार, देश में 17,400 नए कोविड​​​​-19 मामले दर्ज किए गए हैं, जिससे संक्रमणों की कुल संख्या बढ़कर 520,000 हो गई है। बीते 24 घंटे में यह 21 पीड़ितों की मौत हुई है। उत्तर कोरिया ने शुक्रवार को कोरोनो वायरस पहली मौत की सूचना दी। यहां कल छह लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई थी। देश में ‘मेजर नेशनल इमरजेंसी’ की घोषणा कर दी गई है।

क्राइसिस पोलित ब्यूरो की बैठक

कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी (KCNA) के अनुसार, देश के नेता किम जोंग उन सहित शीर्ष अधिकारियों ने प्रकोप पर चर्चा करने के लिए क्राइसिस पोलित ब्यूरो की बैठक की। मीटिंग के बाद यह घोषणा की गई कि मैक्सिमम इमरजेंसी वायरस नियंत्रण प्रणाली लागू की जाएगी। इससे पहले तक नॉर्थ कोरिया खुद को कोरोना वायरस से फ्री कंट्री बताता रहा है।

संक्रमितों में ओमिक्रॉन वैरिएंट के संकेत

इसके अलावा, उत्तर कोरियाई नेता ने सभी मोर्चों पर चौकसी बढ़ा दी है। वायु और समुद्री सीमाओं पर कड़ी सतर्कता का आदेश दिया गया है। कोरियाई अधिकारियों ने कहा कि बुखार से पीड़ित रोगियों से एकत्र किए गए नमूनों से संकेत मिलता है कि वे ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित हैं। यह जोर देकर कहा गया कि इसका उद्देश्य वायरस के प्रसार को रोकना है। साथ ही कम से कम समय में संचरण के स्रोत को जड़ से खत्म करने का प्रयास किया जाएगा।

यह पढ़े: कनाडा में पंजाबियों का दबदबा, ओंटारियो में चुनाव लड़ रहे 20 NRI कैंडिडेट