राष्ट्रपति भवन में शुरू हुआ पद्म पुरस्कार समारोह, सुषमा स्वराज को मरणोपरांत मिला पद्म विभूषण पुरस्कार

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में स्थित राष्ट्रपति भवन में आज 8 नवमबर को पद्म पुरस्कारों का वितरण समारोह शुरू हो गया है। इस वर्ष यह पुरस्कार राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद द्वारा प्रदान किए जा रहे हैं। इस वर्ष राष्ट्रपति ने 1 युगल मामले सहित 119 पद्म पुरस्कार प्रदान करने की मंजूरी दी है।

ज्ञात हो कि एक युगल मामले में, पुरस्कार की गणना एक के रूप में की जाती है। इस बार के पद्म पुरस्कारों की इस सूची में 7 पद्म विभूषण, 10 पद्म भूषण और 102 पद्म श्री पुरस्कार शामिल हैं। पुरस्कार पाने वालों में 29 महिलाएं, 16 मरणोपरांत पुरस्कार विजेता और 1 ट्रांसजेंडर पुरस्कार विजेता हैं।

पद्म पुरस्कार समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द के अलावे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह के अलावे कई केन्द्रीय मंत्री और गणमान्य लोग उपस्थित हैं। इसक साथ ही पद्म पुरस्कार प्रपात करने वाले सभी लोग और उनके प्रतिनिधि भी समारोह में उपस्थित हैं।

पद्म पुरस्कार समारोह के प्रारंभ में पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को मरणोपरांत पद्म विभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उनकी बेटी बंसुरी स्वराज ने पुरस्कार ग्रहण किया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द के हाथों एयर मार्शल डॉ पद्म बंदोपाध्याय को चिकित्सा के क्षेत्र में पद्म श्री पुरस्कार मिला। एयर मार्शल डॉ पद्म बंदोपाध्याय (सेवानिवृत्त) को आज चिकित्सा के क्षेत्र में पद्म श्री पुरस्कार मिला। वह भारत की पहली महिला एयर मार्शल हैं।

आज राष्ट्रपति के हाथों अभिनेत्री कंगना रनौत को पद्म श्री पुरस्कार 2020 मिला। इसके बाद ICMR ( Indian Council of Medical Research) के पूर्व प्रमुख वैज्ञानिकडॉ रमन गंगाखेडकर को राष्ट्रपति के हाथों पद्म श्री पुरस्कार 2020 प्राप्त हुआ। पूर्व पाकिस्तानी नागरिक और वर्तमान में भारतीय नागरिकता प्राप्त कर चुके गायक अदनान सामी को पद्म श्री पुरस्कार 2020 मिला। साथ प्रख्यात हिंदुस्तानी शास्त्रीय गायक पंडित छन्नूलाल मिश्रा को पद्म विभूषण पुरस्कार 2020 मिला।

साथ ही हाल ही में टोक्यो ओलंपिक में टीम का नेतृत्व करने वाली महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल को पद्म श्री पुरस्कार 2020 से सम्मानित किया गया। ओलंपियन बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु को पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।

पद्म पुरस्कार समारोह में पद्म पुरस्कार लेने पहुंचे गायक सुरेश वाडकर ने बात करते हुए कहा कि मैं बहुत खुश हूं। यह पुरस्कार प्राप्त करना हर कलाकार का सपना होता है। मैंने 4 साल की उम्र से गाना शुरू किया था और अब तक 30,000 से 40,000 गाने गा चुका हूं।