कृषि कानूनों के विरोध में प्रकाश सिंह बादल ने लौटाया पद्म भूषण सम्मान

कृषि कानूनों के विरोध में पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री और अकाली दल के वरिष्ठ नेता प्रकाश सिंह बादल ने कृषि कानूनों के विरोध में अपना पद्म विभूषण सम्मान वापस कर दिया है. प्रकाश सिंह बादल के अलावा अकाली दल के नेता रहे सुखदेव सिंह ढींढसा ने भी अपना पद्म भूषण सम्मान लौटाने की बात कही है.

बता दें कि प्रकाश सिंह बादल ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को करीब तीन पन्ने का पत्र लिखा, जिसमें कृषि कानूनों का विरोध किया, पूर्व सीएम ने किसानों पर सरकार द्वारा लिए गए एक्शन की निंदा की और इसी के साथ अपना सम्मान वापस कर दिया.

अपना पद्म विभूषण लौटाते हुए पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने लिखा, ‘मैं इतना गरीब हूं कि किसानों के लिए कुर्बान करने के लिए मेरे पास कुछ और नहीं है, मैं जो भी हूं किसानों की वजह से हूं. ऐसे में अगर किसानों का अपमान हो रहा है, तो किसी तरह का सम्मान रखने का कोई फायदा नहीं है.’ बादल ने आगे लिखा कि किसानों के साथ जिस तरह का धोखा किया गया है, उससे उन्हें काफी दुख पहुंचा है. किसानों के आंदोलन को जिस तरह से गलत नजरिये से पेश किया जा रहा है, वो दर्दनाक है.

इससे पहले बादल परिवार कृषि कानूनों का बड़ा विरोध कर चुका है. हरसिमरत कौर बादल ने केंद्रीय मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था. केंद्र के नए कानूनों को किसानों के साथ बड़ा धोखा बताया था. इतना ही नहीं सुखबीर बादल ने अकाली दल के NDA से अलग होने का ऐलान करते हुए पंजाब के चुनावों में अकेला लड़ने की बात कही थी.

यह भी पढ़ें:

इजराइल में एक बार फिर खड़ा हुआ राजनीतिक संकट, जल्द होंगे आम चुनाव!

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गृहमंत्री अमित शाह से की मुलाकात