त्वचा रोगों से छुटकारा दिलाने में बहुत मददगार है पीपल की पत्तियां

भारतीय धर्म के मुताबिक पीपल का पेड़ एक महान औषधीय पेड़ माना जाता है। प्राचीन काल से लेकर अब तक पीपल के पेड़ की लोग पूजा करते आ रहे हैं। लेकिन यह बहुत ही कम लोग जानते हैं कि पीपल का पेड़ औषधीयों का भंडार है और कई गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है। जिसमें सांप काटने पर, अस्थमा, त्वचा रोग, गुर्दे की बीमारियां, कब्ज, खसरा, नपुंसकता और विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए पीपल के पेड़ एक बेहतरीन औषधि के रूप में भी काम आता है।

दस्त के साथ खून आने वाली बीमारी को रोकना

अगर आपको दस्त के साथ खून भी आ रहा है तो पीपल के पत्ते, सूखे धनिये के बीज, थोड़ी चीनी लें और इनको अच्छी तरह मिला लें। और दिन में दो बार सुबह और शाम को तकरीबन 3-4 ग्राम लें और यह इस बीमारी में बहुत बहुत उपयोगी है।

पेट का दर्द रोकने के लिए

पीपल पत्तियों को पीसकर उसमे तकरीबन 50 ग्राम गुड़ मिलाएं और दोनों का मिश्रण बना ले। फिर इनकी गोलियां बनाकर दिन में 3-4 बार लें। यह पेट दर्द को शांत करेगा।

सांप के काटने पर

सांप के काटने के मामले में पीपल के अर्क के लगभग 2-2 चम्मच जहर के प्रभाव को कम करने के लिए तीन से चार गुना असर करते है।

त्वचा रोगों के लिए

त्वचा को चमकदार बनाने के लिए और त्वचा से संबंधित बीमारी से छुटकारा पाने के लिए प्रतिदिन सुबह पीपल की मुलायम पत्तियों को खाएं। पीपल के पत्तो की चाय बनाकर भी आप अवश्य पी सकते है।