मकर संक्रांति और लग्न के लिए अपने अपने गांव जा रहे लोग,कोरोना की आड़ में पलायन की अफवाह, 17 जनवरी तक ट्रेनो में सामान्य वेटिंग ,थर्ड एसी में खाली पड़ी हैं सीटें

इस महीने 14 तारीख को मकर संक्रांति और 26 जनवरी के बाद फरवरी महीने तक लग्न का सीजन शुरू हो रहा है जिससे लोग अपने अपने गांव के लिए जाने शुरू हो गए है लेकिन लोगों का फेस्टिवल,और अपने निजी उत्सवों में जाना पलायन बताया जा रहा है।दरअसल इन दिनों कोरोना का प्रकोप बढ़ रहा है लेकिन अभी तक रात्रि कर्फ्यू छोड़कर अन्य लॉक डाउन जैसी संभावना बिल्कुल नही है ।

साथ ही रेलवे के आंकड़े ऐसा बिल्कुल नही बता रहे है कि यह पलायन की भीड़ है।रेलवे के पीआरएस से प्राप्त डेटा से यह पता चल रहा है कि सूरत से रवाना होने वाली ट्रेनों की करेंट बूकिंग में सीटें भी खाली है यही नही बल्कि अगले 17 जनवरी तक स्लीपर में 10 से भी कम वेटिंग जबकि एसी में तो सीटें करंट में खाली जा रही है।रेलवे अधिकारी भी इस बात का खंडन कर रहे हैं।

ये पलायन नही

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर ने पलायन की अफवाह पर बताया कि पिछले तीन दिनों से ट्रेन के माध्यम से पलायन की अफवाह है जबकि ऐसा बिल्कुल नही है।क्योंकि हमारी ट्रेनें जो यूपी बिहार के लिए जा रही है उनकी वेटिंग जनरल स्टेटस में है।ट्रेनो की भीड़ एक दम सामान्य है।जबकि करेंट में सीटें खाली है।मकर संक्रांति और 26 जनवरी के बाद 20 फ़रवरी तक लग्न का माहौल है जिनके लिए लोगों की आवाजाही हो रही है। पलायन जैसी बिल्कुल भी स्थिती नही है।इसके कई प्रमाण है।

सूरत आने वाली भीड़ ज्यादा

जहां एक तरफ सूरत से लोगों अपने गांव जाना पलायन बताया जा रहा है वही यूपी बिहार से सूरत आने वालों की भीड़ इससे ज्यादा है । रेलवे के पीआरएस बूकिंग डेटा के मुताबिक़ 11 जनवरी को ताप्ती गंगा के स्लीपर प्रयागराज छिंवकी से सूरत के लिए 76 वेटिंग है।जबकि थर्ड एसी में 43 वेटिंग है।इसी प्रकार से बरौनी -अहमदाबाद की भी स्थिति है।जबकि सूरत से जाने वाली ट्रेनों की वेटिंग 17 जनवरी तक सामान्य और जनरल वेटिंग है। 17 जनवरी की सूरत-छपरा क्लोन में अभी भी जनरल बुकिंग में एसी सीटें खाली पड़ी है।साथ ही यह आने वाली भीड़ 20 जनवरी तक ऐसी ही है।

ऐसी है जाने की स्थिति

जहां एक तरफ लोगों का जाना पलायन कहा जा रहा है वही आज यानी 10 जनवरी की बुकिंग इस प्रकार है ताप्ती गंगा में प्रयागराज तक के लिए थर्ड एसी में 3 सामान्य वेटिंग जो चार्ट बनने के बाद कन्फर्म में कन्वर्ट हो गयी जबकि स्लिपर में 32 वेटिंग जो चार्ट बनने के बाद आरएसी में आ गयी।वही 17 जनवरी को सूरत-छपरा क्लोन ट्रेन में 177 सीटें खाली है।जबकि उधना वाराणसी की हर ट्रिप में।करेंट बुकिंग में सीटें उपलब्ध है।

यह पढ़े: हंग्री फ़ॉर कार्गो के तहत पश्चिम रेलवे ने 66 मिलियन टन की लोडिंग दर्ज की