वजन वाले व्यक्तियों में बहुत अधिक होता है हृदयरोग का जोखिम

भले ही आप मधुमेह, उच्च रक्तचाप और उच्च कोलस्ट्राल जैसे गंभीर समस्याओं से ग्रस्त नहीं हों लेकिन यदि आप मोटे हैं तो फिर आपके हृदय रोगों के गिरफ्त में आने का जोखिम बहुत अधिक होता है। ब्रिटेन के सुप्रसिद्ध बर्मिंघम विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं ने हृदय रोग जोखिमों के संदर्भ में वजन और चय-उपाचय की जबरदस्त तुलना करते हुए अब तक का अपने तरह का सबसे बड़ा अध्ययन किया।

इस अध्ययन से पता चला है कि लोग भले ही चय-उपाचय की दृष्टि से पूरी तरह स्वस्थ हों लेकिन मोटे हैं, तो उनमें असामान्य चय-उपाचय के सामान्य वजन वाले व्यक्तियों की तुलना में हृदयरोग का जोखिम बहुत अधिक होता है। अनुसंधानकर्ताओं ने उन तकरीबन 30 लाख बालिगों के इलेक्ट्रोनिक स्वास्थ्य रिकॉर्ड का उपयोग किया जो शुरु में पूरी तरह हृदयरोग से मुक्त थे।

उन्होंने यह पता लगाने के लिए औसतन पांच साल चार महीने बाद प्रत्येक मरीज के रिकॉर्ड पर गौर किया कि क्या वे चार प्रकार के हृदयरोगों की गिरफ्त में आए है या नहीं। इसके लिए मरीजों को चार श्रेणियों में भी बांटा गया था– सामान्य से कम वजन वाले, सामान्य वजन वाले, अधिक वजन वाले और बहुत अधिक मोटे व्यक्ति। अध्ययन से यह बात भी सामने आया कि जो लोग भले ही चय उपाचय की दृष्टि से पूरी तरह स्वस्थ हैं लेकिन मोटे हैं तो उनमें सामान्य वजन के अच्छे चय-उपाचय वाले व्यक्तियों की तुलना में हृदयरोगों का खतरा बहुत अधिक होता है।

जब लोगों को किसी बात से टेंशन होती है या घबराहट होने लगती है तो वे बार- बार अपने चेहरे पर हाथ लगाते है। विशेषज्ञों का यह मानना है कि यह आदत आपके चेहरे की त्वचा को खराब ही नहीं करती बल्कि चेहरे पर दाग धब्बे होने की संभावना भी बढ़ जाती है। अगर आपके चेहरे पर पिंपल्स होते है तो उनमें इंफेक्शन होने का डर रहता है।