पीपुल्स कांफ्रेंस के नेता ने की मीरवाइज फारूक की नजरबंदी खत्म करने की अपील

पीपुल्स कांफ्रेंस (पीसी) के अध्यक्ष सज्जाद लोन ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से मीरवाइज उमर फारूक की नजरबंदी खत्म करने का आग्रह किया है। लोन ने बुधवार को ट्विटर पर दोनों नेताओं से आग्रह करते हुए कहा,“मीरवाइज के बारे में विचार किया जाये। वह पिछले चार साल से नजरबंद हैं और हममें से किसी ने भी उनके बारे में बात नहीं की है। मैं क्षमाप्रार्थी हूं।”

उन्होंने कहा,“अमित शाह साहब और मनोज सिन्हा साहब से विनम्र अपील है कि कृपया यह सुनिश्चित करें कि उन्हें जल्द से जल्द रिहा किया जाए। वह खुद हिंसा का शिकार हुए हैं। हम राजनीतिक रूप से भिन्न हो सकते हैं, लेकिन वह हमें एक धार्मिक प्रमुख के रूप में प्रेरित करते हैं। वह एक ऐसे धार्मिक मुखिया हैं जिन्होंने संयम की ताकतों का नेतृत्व किया।”

उन्होंने कहा, “मीरवाइज उन उदारवादी बयानों पर कायम हैं जो इस्लाम के सच्चे रूप का प्रतिनिधित्व करते हैं। उसके पास धार्मिक कर्तव्य हैं। उनका निरंतर नजरबंदी उनके और उन सभी के खिलाफ एक अपराध है, जिन्हें वह धार्मिक स्तर पर प्रेरित करते हैं। यह मालूम होना चाहिए कि कश्मीर में कई युद्ध हुए हैं और हमारे वास्तविक युद्ध में वह एक उदारवादी हैं।”

गौरतलब है कि अगस्त 2019 में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35 ए निरस्त किए जाने के बाद से मीरवाइज नजरबंद हैं।

यह भी पढ़े: त्रिपुरा शाही वंशज ने अपनी पार्टी के नेताओं के खिलाफ कथित भाई-भतीजावाद पर दी प्रतिक्रिया