पेट्रोल 420 और डीजल 400 रुपये प्रति लीटर, श्रीलंका में महंगाई की आग, फिर भी भारत से सस्ता है तेल

श्रीलंका में मंगलवार को पेट्रोल-डीजल के रेट में रिकॉर्ड बढ़ोतरी की गई। मंगलवार को पेट्रोल की कीमतों में 24.3 फीसद और डीजल की कीमतों में 38.4 फीसद की बढ़ोतरी से ईंधन काफी महंगा हो गया है। श्रीलंका विदेशी मुद्रा भंडार की कमी के कारण भीषण आर्थिक संकट का सामना कर रहा है, जिसके चलते यह बढ़ोतरी की गई।

फिर भी भारत से सस्ता है तेल

श्रीलंका में 19 अप्रैल के बाद ईंधन कीमतों में यह दूसरी बार बढ़ोतरी की गई है। इसके साथ ही सबसे अधिक इस्तेमाल किए जाने वाले ऑक्टेन 92 पेट्रोल की कीमत 420 रुपये (1.17 डॉलर) प्रति लीटर और डीजल की कीमत 400 रुपये (1.11 डॉलर) प्रति लीटर होगी, जो अब तक का उच्चतम स्तर है।

हालांकि, भारतीय रुपये में यह केवल 90.50 रुपये हुआ। यानी श्रीलंका में पेट्रोल अभी भारत के मुकाबले सस्ता है। क्योंकि दिल्ली में 96.72 रुपये और 1 लीटर डीजल का दाम 89.62 रुपये है। वहीं, श्रीलंका में डीजल का मूल्य भारतीय रुपये में 86.19 रुपये लीटर पड़ेगा।

भारत की प्रमुख तेल कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन की श्रीलंकाई सहायक कंपनी लंका आईओसी ने भी ईंधन की खुदरा कीमतों में वृद्धि की है। एलआईओसी के सीईओ मनोज गुप्ता ने कहा, ”हमने सिलोन पेट्रोलियम कॉरपोरेशन (सीपीसी) की बराबरी करने के लिए कीमतें बढ़ाई हैं।” सीपीसी श्रीलंका में सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनी है।

श्रीलंका ने ईंधन खरीद के लिए भारत से 50 करोड़ डॉलर का कर्ज मांगा

विदेशी मुद्रा संकट के बीच श्रीलंका के मंत्रिमंडल ने पेट्रोलियम उत्पादों की खरीद के लिए भारतीय एक्जिम बैंक से 50 करोड़ अमेरिकी डॉलर का कर्ज मांगने के प्रस्ताव को मंजूरी दी। श्रीलंका पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल-डीजल खत्म होने से रोकने के सभी संभव उपाए कर रहे है।

देश में विदेशी मुद्रा संकट के चलते आयात के लिए भुगतान करने में दिक्कत हो रही है। ऊर्जा मंत्री कंचना विजेसेकेरा ने मंगलवार को कहा कि सोमवार को हुई मंत्रिमंडल की बैठक में, ईंधन खरीदने के लिए भारतीय एक्जिम बैंक से ऋण लेने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई।

उन्होंने कहा कि श्रीलंका को पहले ही तेल खरीद के लिए भारतीय एक्जिम बैंक से 50 करोड़ डॉलर और भारतीय स्टेट बैंक से 20 करोड़ डॉलर मिल चुके हैं।

यह पढ़े: सीमेंट कंपनी के शेयर बेच निकल रहे निवेशक, एक्सपर्ट बोले-खरीद डालो