पीएम को वर्चुअल संवाद में सुनाई अपनी पीड़ा, 3 घंटे बाद ही मिला दो लाख का चेक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से वर्चुअल संवाद में फलों का ठेला लगाने वाली आगरा की प्रीति ने घर जर्जर होने की समस्या को उजागर किया था। जिसके तीन घंटे बाद ही डीएम प्रभु एन सिंह ने उसके घर जाकर दो लाख रुपये का चेक सौंप दिया। जिसके बाद प्रीती ने कहा उसे विश्वास नहीं हो रहा कि सरकार में सुनवाई इतनी जल्दी भी होती है। वर्चुअल संवाद में प्रीती ने पीएम से कहा था कि स्वनिधि योजना के माध्यम से आपने डूबतों को तिनके का सहारा दिया है।

शिल्पग्राम में फलों का ठेला लगाने वाली ताजगंज निवासी प्रीति से प्रधानमंत्री ने सात मिनट बातचीत की थी। जिसमें प्रधानमंत्री मोदी ने प्रीति से स्वनिधि योजना के फायदे, लॉकडाउन में झेली मुश्किलें, सरकारी योजना का लाभ मिलने के बारे में पूछा और स्वनिधि योजना के फायदे भी बताए।

पीएम मोदी और प्रीती के बीच हुई बातचीत के अंश:-

प्रधानमंत्री: लॉकडाउन में घर को आपने कैसे संभाला ?
प्रीति: लॉकडाउन में कुछ दिक्कतें आईं थीं मेरे पर क्या पूरे भारत पर आईं थीं, पर कुछ दिक्कतें आपने दूर कर दीं। आपने जनधन योजना में पैसे डाले। खाने के पैकेट नगर निगम से मिल गए, पूरी सहायता मिली। हम फोन करते थे तो हमें खाना मिल जाता था।

प्रधानमंत्री: आपको राशन समय पर मिला।
प्रीति: जी, हमारे पास राशन कार्ड है।

प्रधानमंत्री: आपने अपने पैरों पर खड़ा होना तय किया, अच्छा है।
प्रीति: जब तक आप हमारी अंगुली पकड़े रहेंगे, तब तक कुछ नहीं होगा हमें।

प्रधानमंत्री: आप डिजिटल पेमेंट करोगी तो कैशबैक मिलेगा यह जानकारी है ना।
प्रीति: जी, पता है। 1200 रुपये साल में मिलेंगे, इसका फायदा मिलेगा।

प्रधानमंत्री: आप ब्याज में फायदा ले सकती हैं। एक तरह से बिना ब्याज के पैसे मिल जाएंगे। आपके फल खाकर लोगों की सेहत सुधरती है। डिजिटल पेमेंट से कोरोना से सावधान कर रही हैं। मेरी शुभकामनाएं है कि आपका व्यापार बढ़े और बच्चों की शिक्षा अच्छी हो।

यह भी पढ़े: फेसबुक इंडिया की पॉलिसी हेड अंखी दास का इस्तीफा, वजह भी आई सामने
यह भी पढ़े: रामदास अठावले कोरोना संक्रमित, कल दिलाई थी पायल घोष को RPI की सदस्यता