बिहार में भाजपा के चुनावी घोषणा पत्र को लेकर सियासी घमासान

आज दुनियाभर में कोविड-19 से संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। पूरे विश्व के वैज्ञानिक कोराना वैक्सीन बनाने में जुटे हैं और हर कोई वैक्सीन का इंतजार कर रहा। बिहार विधानसभा चुनावों में भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में कोरोना वैक्सीन को मुफ्त देने का वायदा किया है। इस घोसणा पत्र को लेकर विपक्ष बार बार हँगामा कर रही। इसी बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वैक्सीन को लेकर बड़ा ऐलान किया है। पीएम मोदी ने देशवासियों को आश्वस्त किया है कि जब भी वैक्सीन आ जाएगी तो सभी को को लगाई जाएगी। हालांकि वैक्सीन के निशुल्क होने या फिर चार्जेबल होने को लेकर उन्होंने कुछ नहीं कहा।

कोरोना वैक्सीन पर दिए गए संदेश में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘मैं देश को आश्वस्त करना चाहूंगा कि जैसे ही देश में कोविड-19 वैक्सीन उपलब्ध होगी। हर किसी को वैक्सीन दी जाएगी, सभी को टीका लगाया जाएगा। किसी को छोड़ा नहीं जाएगा।’

पीएम मोदी ने ये भी कहा कि इस टीकाकरण अभियान के शुरुआत में फ्रंटलाइन वर्कर्स को ये टीका लगाया जाएगा। पीएम ने कहा कि हमें यह पता होना चाहिए कि वैक्सीन बनने की प्रक्रिया अभी चल रही है। ट्रायल हो रहे हैं। एक्सपर्ट अभी यह कह सकने की स्थिति में नहीं हैं कि वैक्सीन कैसी होगी या हर व्यक्ति को कितने डोज दिए जाने होंगे या फिर यह एक बार दिया जाना होगा।

बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा ने अपने घोषणापत्र में फ्री कोरोना वैक्सीन का वादा किया है। इसके बाद से ही अन्य राजनीतिक दलों समेत अनेक राज्यों में इस पर बयानबाजी तेज हो गई। विपक्ष ने सीधे तौर पर कहा कि कोरोना महामारी केवल बिहार या किसी राज्य विशेष की नहीं है, बल्कि देशभर में फैली है। ऐसे में इसका टीका या वैक्सीन भी किसी राज्य विशेष के लिए नहीं बल्कि देश के लिए है। ऐसे में चुनाव जीतने के लिए मुफ्त कोरोना वैक्सीन की घोषणा एक झांसा मात्र है। इसके बाद कई अन्य राज्य सरकारों ने आने वाली कोरोना वैक्सीन को राज्य में फ्री करने की बात कही है।