गर्भवती महिलाओं को बना रहता है इन बातों का बहुत ज्यादा खतरा

विश्व भर में लोगों के अंदर आयरन की कमी देखी जा रही है। शोध के अनुसार विश्व में प्रत्येक पांच में से एक व्यक्ति आयरन की कमी से ग्रस्त है। अगर बात की जाए गर्भवती महिलाओं की तो उनमें यह समस्या ज्यादा देखी जा रही है। थायरॉइड विकार और आयरन की कमी गर्भवती महिलाओं में प्रसूति और भ्रूण जटिलताओं के साथ जुड़े हैं। आयरन की कमी से थायरॉइड विकार का जोखिम बढ़ जाता है और इसके साथ ही गर्भपात और समय पूर्व जन्म के जोखिमों के बढ़ने की भी संभावना होती है।

आयरन थायरॉइड पेरोक्सीडेस (टीपीओ-एबीएस) के सामान्य क्रियातंत्र के लिए जरूरी होता है। यह प्रोटीन थायरॉइड के सटीक क्रियातंत्र के लिए आवश्यक है। गर्भवती महिलाओं को अपने बच्चे के मस्तिष्क के संपूर्ण विकास के लिए पर्याप्त हार्मोन की जरूरत होती है।

खासकर पहले सत्र के दौरान यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि उस दौरान भ्रूण खुद अपनी थायरॉयड ग्रंथि विकसित करता है।

मॉर्निंग वॉक से आएगी दिन भर काम करने की एनर्जी