स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति का देश के नाम संबोधन, चीन का किया जिक्र

भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश को संबोधित किया। उन्होंने देश-विदेश में रह रहे सभी भारतियों को स्वतंत्रता दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा इस अवसर पर हमें अपने स्वाधीनता सेनानियों के बलिदान को कृतज्ञता के साथ याद करना चाहिए।

राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, जब सारी दुनिया कोरोना जैसी महामारी से लड़ने में जुटी हुई है, तभी हमारे पड़ोसी देश (चीन) ने विस्तारवादी रवैये को चालाकी से अंजाम देने का दुस्साहस किया है। लेकिन उसकी चाल को हमारे बहादुर जवानों ने अपने प्राण न्योछावर कर नाकाम कर दिया।

उन्होंने कहा, पूरा देश गलवां घाटी के शहीद जवानों को नमन करता है। उनकी बहादुरी पर पूरे देश को गर्व है। हर भारतवासी के हृदय में उनके परिवार के सदस्यों के प्रति कृतज्ञता का भाव है। देश के दुश्मनों को इसका माकूल जवाब दिया जाएगा। राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में वंदे भारत मिशन, कोरोना संकट में अन्य देशों की सहायता, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अस्थायी सदस्यता और ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना जैसे कई विषयों का प्रमुखता से जिक्र किया।

यह भी पढ़े: इस्राइल के PM ने भारत को दी स्वतंत्रता दिवस की बधाई, मोदी को बताया अच्छा दोस्त
यह भी पढ़े: 74वां स्वतंत्रता दिवस: गलवां घाटी में शहीद हुए वीर जाबांजों को याद कर रहा देश