Breaking News
Home / देश / असम के डायन विरोधी कानून को राष्ट्रपति ने दी मंजूरी

असम के डायन विरोधी कानून को राष्ट्रपति ने दी मंजूरी

देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने असम डायन प्रताडऩा (प्रतिबंध , रोकथाम और संरक्षण) विधेयक , 2015 को अपनी मंजूरी दे दी है जिसके बाद यह विधेयक असम विधानसभा से पारित होने के करीब तीन साल बाद कानून बन गया है। आपको बता दे की समाज से अंधविश्वास का सफाया करने पर लक्षित इस कानून में सात साल तक कैद की सजा और पांच लाख रुपए तक के जुर्माने का का प्रावधान है।

राष्ट्रपति सचिवालय की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार कोविंद ने 13 जून को इस विधेयक को अपनी मंजूरी प्रदान की और इस कानून के तहत कोई भी अपराध गैर जमानती , संज्ञेय अपराध बन गया। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (CID) अनिल कुमार झा ने बताया कि असम में लोगों खासकर महिलाओं को डायन बताकर उनकी हत्या कर देना बहुत पुरानी समस्या है। 2001-2017 के दौरान 114 महिलाओं और 79 पुरुषों को डायन / ओझा करार देकर उनकी हत्या कर दी गई। इस दौरान पुलिस ने तकरीबन 202 मामले दर्ज किए। इस समस्या से निबटने के लिए असम विधानसभा ने 13 अगस्त , 2015 को सर्वसम्मति से विधेयक पारित किया था।

‘एस दुर्गा’ में काम कर चुकी अभिनेत्री राजश्री देशपांडेय फिर विवादों के घेरे में

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *