चीन के साथ लगी सीमा की सुरक्षा को लेकर प्रधानमंत्री एवं राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने की बैठक

कोरोना संकट के दौरान उपजे एक और सुरक्षा हालात पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल एवं सीडीएस जनरल बिपिन रावत से जानकारी ली । जनरल ने तीनों सेनाओं की मौजूदा स्थिति और इन हालातों से निपटने के इनपुट दिए । प्रधानमंत्री ने साथ ही युद्ध स्तर की तैयारी का जायजा भी लिया।

👉 तीनों सेनाओं के तरफ से प्रधानमंत्री को जानकारी मुहैया कराई गई।

👉 प्रधानमंत्री के साथ बैठक में मुख्य रूप से राष्ट्रीय सुरक्षा सुरक्षा सलाहकार एवं सीडीएस जनरल बिपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुख उपस्थित रहे।

विदित कुछ दिनों से लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल एलएसी पर चीन के उकसावे वाली हरकत पर उपजे दोनों देशों के मध्य कुमुद पूर्ण तनातनी के हालात के बीच प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार शाम प्रधानमंत्री कार्यालय ( पीएमओ ) में लद्दाख में उपजे हालात पर रिपोर्ट देखी ।

सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री ने तीनों सेनाओं से हालात पर विकल्प जानने को कहा है । इस पर तीनों सेनाओं ने चीन की हरकत पर नकेल कसने के लिए रणनीतिक और सामरिक विकल्पों को लेकर सुझाव दिए प्रधानमंत्री को ब्लू प्रिंट भी सौपा।

आपको बता दें कि पूर्वी लद्दाख से सटे चीन के इलाके में चीन और पाकिस्तान का शाहीन नाम का युद्ध अभ्यास चल रहा था । उसके बाद चीन दौलत बेग ओल्डी, गलवान नाला और पेग्योंग लेख पर अपने 5000 सिपाही के साथ भारतीय सीमा में आकर टेंट गाड़ दिए ।

भारत ने भी त्वरित कार्रवाई करते हुए अपनी सैन्य टुकड़ी भी वहां तैनात कर दी । इससे पहले भी 6 और 7 मई को दोनों सैनिकों के बीच हाथापाई हो गई थी। अब यह युद्ध स्तरीय तनाव में तब्दील होता दिख रहा है।

Loading...