उत्तर प्रदेश मे बढ़ते क्राइम पर प्रियंका गाँधी का ट्वीट, बोली- ‘प्रदेश सरकार बढ़ते क्राइम रेट पर पर्दा डाल रही है’

प्रदेश में बढ़ते क्राइम और सरकार की चुप्पी पर प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश कि बीजेपी सरकार पर निशाना साधा। प्रियंका ने ट्वीटर पर एक रिपोर्ट शेयर करते हुए यूपी सरकार कि निंदा कि है, जिसके मुताबिक प्रदेश में पिछले 48 घंटों में 12 मर्डर हो गए है और अपराधियों का अभी तक कोई ख़बर नहीं है। प्रियंका गाँधी ने यूपी सरकार पर क्राइम रेट पर पर्दा डालने का भी आरोप लगाया है। प्रियंका ने कहा, “यूपी सरकार बार-बार अपराध की घटनाओं पर पर्दा डालती है, मगर अपराध चिंघाड़ते हुए प्रदेश की सड़कों पर तांडव कर रहा है”। इसके साथ ही प्रियंका ने पत्रकारों पर हो रहे लगातार हमलों पर भी चिंता व्यक्त की।

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने ट्वीटर पर मंगलवार को कई ट्वीट किए। एक चार्ट शेयर करते हुए कांग्रेस नेत्री ने 23 और 24 अगस्त को प्रदेश में हुए मर्डर, हत्याकांड और अन्य क्राइम का पूरा ब्योरा दिया ह़ै। शीर्षक में प्रियंका ने लिखा कि, “यूपी के सीएम सरकार की स्पीड बताते हैं और अपराध का मीटर उससे दोगुनी स्पीड से भागने लगता है। प्रत्यक्षम् किम् प्रमाणम्। ये यूपी में केवल दो दिनों का अपराध का मीटर है। यूपी सरकार बार-बार अपराध की घटनाओं पर पर्दा डालती है, मगर अपराध चिंघाड़ते हुए प्रदेश की सड़कों पर तांडव कर रहा है”

प्रियंका गाँधी द्वारा एक शेयर किए गए चार्ट के मुताबिक, रविवार को गोरखपुर में मां-बेटे की हत्या, जौनपुर में ट्रिपल मर्डर, प्रयागराज में डबल मर्डर, उन्नाव में महिला का शव मिला, बरेली में मासूम की हत्या, कौशाम्बी में व्यापारी पर हमला, चित्रकूट में मजदूर की हत्या, मुजफ्फरनगर में हत्या और वाराणसी में गैंगरेप की वारदात हुई है। इसी चार्ट के मुताबिक, सोमवार को बलिया में पत्रकार की हत्या, गाजियाबाद में युवक पर हमला, बागपत में दलित छात्रा को अगवा कर गैंगरेप, बाराबंकी में युवक की हत्या, बिजनौर में युवक की पीटकर हत्या, सुल्तानपुर में सिपाही की हत्या, फतेहपुर में युवक की हत्या हुई है. इसके साथ 24 अगस्त को ही प्रयागराज में सपा नेता पर हमला, लखनऊ में अधिकारी को गोली मारी, उन्नाव में 2 दिन पहले गायब बच्चे का शव मिला और लखनऊ कबीर मठ के प्रशासनिक अधिकारी को गोली मारी गई। इसी कड़ी में 15 दिन पहले बागपत के पूर्व बीजेपी जिलाध्यक्ष संजय खोखर को दिन दहाड़े बदमाशों ने गोली मार कर हत्या कर दी. खोखर मॉर्निंग वॉक पर निकले थे

कुछ दिनो पहले ही बलिया जनपद के फेफना थाना क्षेत्र में पत्रकार रतन सिंह को बदमाशों ने गोली मार कर हत्या कर दी। वे देर शाम अपने मित्र के घर से लौट रहे थे। पत्रकार की हत्या की साजिश में बदमाशों ने पत्रकार का पीछा किया। जान बचाने के लिए पत्रकार ने गांव के प्रधान के घर मे जाकर छिपने की कोशिश की, पर बदमाशों ने दौड़ाकर गोली मार दी। पत्रकार की घटना स्थल पर ही मौत हो गई। परिजनों का कहना है कि पुरानी रंजिश में घटना को अंजाम दिया गया हैं। इस मामले में 10 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई थी।

इसी तरह पिछले महीने की 21 तारीख को गाजियाबाद के विजयनगर इलाके में पत्रकार विक्रम जोशी की भी हत्या कर दी गई थी। कुछ बदमाशों ने उन्हें गोली मार दी। वहीं 19 जून को पत्रकार शुभममणि त्रिपाठी की हत्या हो गई थी। बीते तीन महीनों में तीन पत्रकारों की हत्या हो चुकी है। पत्रकारों पर हो रहे हमलों पर भड़कते हुए प्रियंका ने कहा कि यूपी सरकार का पत्रकारों की सुरक्षा और स्वतन्त्रता को लेकर ये रवैया निंदनीय है।