ऐसे बचाये सर्दियों के मौसम में खुद को संक्रमण से

भीषण सर्दियों के मौसम में हॉस्पिटल में मरीजों की संख्या बहुत अधिक हो जाती है। इस मौसम में इन्फ्लूएंजा वायरस के कारण बहुत गंभीर बीमार हो जाते है। सर्दियों के मौसम में यह वायरस बहुत तेजी से बढ़ता है। सर्दियों में घर के अंदर अत्यधिक समय बिताने से इस वायरस को पकड़ने और छोड़ने की गति बहुत बढ़ती है जबकि हवा में जाने से फेफड़ो में वेंटिलेशन पूरी तरह बढ़ जाता है और संक्रमण का खतरा भी बहुत कम हो जाता है। सर्दियो में कुछ सावधानी रखना बहुत आवश्यक है।

दिनभर में आप कई लोगों से हाथ मिलाते है, कई चीजों को छूते है इसलिए दिन में कई बार हाथ अवश्य धोने चाहिए। संभव हो तो गुनगुने पानी से हाथ धोएं या फिर सैनिटाइजर का जरूर इस्तेमाल करें। यात्रा के दौरान संक्रमण से बचने के लिए ऐसे लोगों से दूर रहे जो अधिक खांस और छींक रहे हो। अगर खुद को भी खांसी या छींक आएं तो हथेलियों पर खांसी या छींक कतई न मारें, क्योंकि आप सामान्य वस्तुओं को छूएंगे या किसी से हाथ मिलाएंगे तो यह वायरस दूसरों को भी अवश्य जा सकता है।

सर्दियों के मौसम में रजाई के बाहर जाने के का किसी का भी मन नहीं होता। लेकिन आपकी हड्डियों और मासंपेशियों की मजबूती के लिए विटामिन D जो कि सूरज की रोशनी से मिलता है वो अतिआवश्यक है। इसलिए दोपहर 12 बजे से तीन बजे तक 45 मिनट के लिए सूरज की रोशनी में रहना बहुत आवश्यक है।