Home / दुनिया / राफेल: राहुल गांधी ने शेयर किया फ्रांसीसी पत्रकार का वीडियो, कैप्शन में लिखा कमांडर ऑफ थीफ

राफेल: राहुल गांधी ने शेयर किया फ्रांसीसी पत्रकार का वीडियो, कैप्शन में लिखा कमांडर ऑफ थीफ

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल सौदे को लेकर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा औलांद के उस बयान के बाद आक्रमक रवैया अपना रखा है जिसमें उन्होंने कहा था कि राफेल डील के लिए भारत की तरफ से ही रिलायंस का नाम सुझाया गया था।

Loading...

पहले से राफेल को लेकर निशाने साध रहे राहुल गांधी ने इस मामले पर और आक्रमक रुख अपनाना शुरु कर दिया है। राहुल गांधी लगातार ट्विटर पर राफेल से जुड़े ट्वीट कर रहे हैं। अब राहुल गांधी ने एक वीडियो शेयर करते हुए पीएम मोदी पर और भी आक्रमक हमले करते हुए उन्हें कमांडर ऑफ थीफ कह डाला।  उन्होंने पीएम पर हमला करते हुए उन्हें ‘कमांडर इन थीफ यानि चोरों का कमांडर करार दिया है।

राहुल गांधी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से एक वीडियो ट्वीट किया है। जिसमें राफेल डील के बारे में बताया जा रहा है। वीडियो में दिख रहे शख्स (पत्रकार) का कहना है कि फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद का कहना था कि इस डील के लिए भारत सरकार ने अंबानी की कंपनी रिलायंस का नाम सुझाया था और उनके पास कोई विकल्प नहीं था।

वीडियो में नजर आ रहे शख्स ने कहा, ओलांद ने बताया कि हमारे पास इस मामले पर कहने के लिए कुछ नहीं था। भारत सरकार ने इस सेवा प्रदाता का नाम सुझाया था। इसके बाद दसॉल्ट ने अंबानी से बातचीत की। हमने उस वार्ताकार को चुना जिसका नाम हमें भारत सरकार ने सुझाया था।

वीडियो में पत्रकार फ्रांसीसी ‘मीडियापार्ट’ वेबसाइट की रिपोर्ट का हवाला दे रहा है जिसमें ओलांद के हवाले से बयान जारी किया गया था। गौरतलब है कि ओलांद ने कहा था कि राफेल सौदे के लिए भारत सरकार ने अनिल अंबानी की रिलायंस का नाम प्रस्तावित किया था और दसॉल्ट एविएशन कंपनी के पास दूसरा विकल्प नहीं था। फ्रांस की एक पत्रिका में छपे इंटरव्यू के मुताबिक ओलांद ने कहा कि भारत सरकार की तरफ से ही रिलायंस का नाम दिया गया था। इसे चुनने में दसॉल्ट एविएशन की भूमिका नहीं है।

जबकि भारत सरकार का यह दावा है कि दसॉल्ट एविएशन और रिलायंस के बीच यह डील बिल्कुल प्राइवेट है। इसमें सरकार की कोई भूमिका नहीं है। ओलांद के इस बयान से अब सियासत ओर तेज हो गई है।  राहुल गांधी इससे  पहले अपने ट्वीट में रक्षा मंत्री निर्मला सीतरमण के इस्तीफे की मांग कर चुके हैं। इससे अलावा राहुल गांधी पीएम मोदी समेत अरुण जेटली पर भी लगातार निशाना साध रहे हैं।

कांग्रेस राफेल डील में घोटोले का आरोप लगा रही है, कांग्रेस का कहना है कि यूपीएम सरकार में राफेल डील 570 करोड़ रुपए प्रति विमान कीमत से डील कर चुकी थी, जबकि एनडीए सरकार ने पुरानी डील कैंसिल कर 1570 करोड़ रुपए प्रति विमान की  कीमत से 36 विमानों की डील की है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *