ईडी पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर राहुल गांधी ने उठाए सवाल, कहा- BJP-RSS के कंट्रोल में हैं सारी संस्थाएं

कांग्रेस नेता राहुत गांधी ने केंद्र सरकार पर विपक्ष को संस्थाओं के जरिए बर्बाद करने का आरोप लगाया है। पार्टी के महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ प्रस्तावित प्रदर्शन से पहले उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में विपक्ष संस्थाओं के माध्यम से ही लड़ता है और आज उन्हें बर्बाद किया जा रहा है। ये सभी संस्थान फिलहाल सरकार को समर्थन दे रहे हैं। इसकी वजह यह है कि सरकार ने यहां अपने लोगों को बिठा रखा है।

राहुल गांधी ने कहा, ‘देश का कोई भी संस्थान आज स्वतंत्र नहीं है और उन पर आरएसएस का कंट्रोल है। हम एक राजनीतिक दल से नहीं लड़ रहे हैं बल्कि हिन्दुस्तान के पूरे इन्फ्रास्ट्रक्चर से लड़ रहे हैं। अगर कोई दूसरे राजनीतिक दल को सपोर्ट करना चाहे तो उसके पीछे ईडी लगा दी जाती है और उसे डराया धमकाया जाता है। यही वजह है कि विपक्ष के मजबूती से खड़े होने के बाद भी बहुत असर नहीं दिख रहा है।

‘जो 70 साल में बनाया, उसे आठ साल में खत्म कर दिया’

कांग्रेस नेता ने कहा कि अब यह वक्त है कि जनता ही आगे आए। ऐसा माहौल बन गया है कि खड़गे को संसद सत्र के बीच से ही ईडी ने पूछताछ के लिए बुला लिया। राहुल ने कहा, ‘लोकतंत्र की मौत हो रही है। जो इस देश ने 70 साल में बनाया उसे आठ साल में खत्म कर दिया गया। आज देश में लोकतंत्र नहीं है।’

‘बड़े उद्योगपतियों के हित में काम कर रही सरकार’

राहुल गांधी ने कहा कि आज चार लोगों की तानाशाही है। पूरा देश इसे जानता है। हम महंगाई, बेरोजगारी, समाज में हिंसा की स्थिति का मुद्दा उठाना चाहते हैं। हमें संसद के बाहर और भीतर बोलने नहीं दिया जाता है। सरकार दो-तीन बड़े उद्योगपतियों के हित में काम कर रही है।

प्रधानमंत्री आवास का ‘घेराव करने’ की तैयारी

कांग्रेस महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ आज राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन करेगी जिसके तहत कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) के सदस्यों और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की प्रधानमंत्री आवास का ‘घेराव करने’ की योजना है। मुख्य विपक्षी दल के अनुसार, कांग्रेस के लोकसभा और राज्यसभा सदस्य संसद भवन से राष्ट्रपति भवन तक मार्च निकालेंगे। उधर, दिल्ली पुलिस ने नई दिल्ली जिले में निषेधाज्ञा लागू होने का हवाला देते हुए शुक्रवार को राष्ट्रीय राजधानी में कांग्रेस को प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी।

यह पढ़े: इस कंपनी से मारुति, हुंडई, टाटा समेत 13 कंपनियां रह गईं बहुत पीछे; इस सस्ती कार ने बदल दिया सारा खेल