राहुल गांधी की स्वास्थ्य विशेषज्ञ आशीष झा से बातचीत, कोरोना को लेकर हुए सवाल-जवाब, देखें पूरा वीडियो

कोरोना संकट के बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी लॉकडाउन लगने से पहले से ही केंद्र सरकार से सवाल करते आ रहे है। इस दौरान वह कई विशेषज्ञों से भी बात कर रहे हैं। इस कड़ी में उन्होंने आज दुनिया के दो स्वास्थ्य विशेषज्ञों से बातचीत की। उन्होंने अपने यूट्यूब चैनल पर इसका वीडियो भी शेयर किया है। जिसमें उन्होंने सबसे ज्यादा बातचीत हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर आशीष झा से की है। साथ ही उन्होंंने स्वीडन के प्रोफेसर जोहान से भी बातचीत की है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञ आशीष झा और राहुल गांधी के सवाल-जवाब

राहुल गांधी: लॉकडाउन पर आपके विचार क्या है और इससे मनोविज्ञान पर क्या फर्क पड़ता है। यह लोगों के लिए कितना मुश्किल है ?

आशीष झा: लॉकडाउन से वायरस को धीमा किया जा सकता है। इससे पीड़ित को समाज से अलग किया जा सकता है, उसके लिए टेस्टिंग जरुरी है। यह आपकी क्षमता को बढ़ाने का समय देता है। यदि इसका इस्तेमाल क्षमता बढ़ाने के लिए नहीं हुआ तो यह काफी नुकसान कर सकता है।

राहुल गांधी: कोरोना वायरस की वजह से मजदूरों को पता नहीं कब दोबारा काम मिलेगा? इस पर आप क्या कहेंगे ?

आशीष झा: कोरोना वायरस 2021 तक रहने वाला है। इससे होने वाले नुकसान का किसी को भी कोई अंदाजा नहीं है। किन रोज कमाने-रोज खाने वाले मजदूरों तक मदद पहुंचने की जरूरत है।

राहुल गांधी: टेस्टिंग को लेकर देश में किस रणनीति पर काम करना चाहिए ?

आशीष झा: दक्षिण कोरिया और ताइवान ने टेस्टिंग को लेकर अच्छा काम किया है। देश में टेस्टिंग बढ़ेगी तभी पता चल पायेगा कि किस क्षेत्र में वायरस का ज्यादा प्रभाव है। इसलिए अस्पताल आने वाले हर शख्स की टेस्टिंग होनी चाहिए, चाहे वह किसी भी वजह से वहां आया हो। साथ ही चिकित्साकर्मियों की टेस्टिंग में भी तेजी लाने की जरुरत है।

राहुल गांधी: क्या गर्मी से कोरोना वायरस खत्म हो जाएगा, इस तरह के कई तर्क दिए गए, आप क्या कहेंगे?

आशीष झा: यह तर्क सही नहीं है कि गर्मी से कोरोना वायरस रुक जाएगा। मौसम को लेकर कई सबूत है कि कोरोना पर इसका प्रभाव डालता है। यदि लोग ज्यादा संख्या में बाहर रहेंगे तो यह वायरस अधिक फैलता है।

राहुल गांधी: भैया बताइए वैक्सीन कब आएगी? (मुस्कुराते हुए गांधी का सवाल)

आशीष झा: अमेरिकन, चाइनीज और ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन है जो कारगर प्रतीत हो रही है। इसमें कौन सी काम आएगी, पता नहीं। संभव है तीनों काम आ जाये। लेकिन पूरी तरह से वैक्सीन के अगले साल तक आने की उम्मीद है। भारत को योजना बनानी होगी क्योंकि 50 करोड़ से अधिक वैक्सीन बनानी है।

यह भी पढ़े: 2022 तक टल सकता है टी-20 विश्व कप, अक्टूबर में IPL कराने पर कल होगा बड़ा फैसला
यह भी पढ़े: हांगकांग मामले पर ट्रंप का चीन को जवाब, कहा-एक हफ्ते के अंदर ले सकते है बड़ा फैसला

Loading...