Breaking News
Home / दुनिया / राहुल गांधी ने साधा जेटली पर निशाना, माल्या से मुलाकात पर कही बड़ी बात

राहुल गांधी ने साधा जेटली पर निशाना, माल्या से मुलाकात पर कही बड़ी बात

भारतीय बैंको से नौ हजार करोड़ का लोन लेकर लंदन फरार हुए किंगफिशर ग्रुप के मालिक विजय माल्या के जेटली के मिलने वाले बयान से भारत में आए सियासी तूफान के बीच आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है। इसी बीच देश की सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस के अध्यक्ष ओर विपक्ष के सबसे बड़े नेता राहुल गांधी ने भी अरुण जेटली को घेरा है अपने ट्विटर हैंडल से राहुल गांधी ने एक ट्वीट करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली पर निशाना साधते हुए लिखा है कि ढाई साल तक वित्त मंत्री ने जांच एजेंसियों से विजय माल्या से मुलाकात की बात छुपाई, फिर अचानक उन्हें याद आता है कि माल्या ने उन्हें बताया था कि वह लंदन जा रहे हैं। एफएम के रूप में अपनी निरंतरता को अपरिवर्तनीय और अपमानजनक बनाने के लिए यह पर्याप्त है।

loading...

शराब करोबारी और किंगफिशर ग्रुप के मालिक विजय माल्या बुधवार को लंदन की वेस्टमिंस्टर मैजिस्ट्रेट कोर्ट में प्रत्यर्पण की सुनवाई के लिए कोर्ट पहुंचे थे। उन्होंने कोर्ट के बाहर उन्होंने बयान दिया था कि भारत छोडऩे से पहले वह वित्त मंत्री अरुण जेटली से मिला थे।

माल्या ने दावा किया कि देश छोडऩे से पहले वह अरुण जेटली से मिलकर आए थे। माल्या ने कहा, मैं मामला निपटाने को लेकर जेटली से मिला था। मैं बैंक का बकाया कर्ज चुकाने के लिए तैयार था, लेकिन बैंकों ने मेरे सेटलमेंट को लेकर सवाल खड़े किए। माल्या ने कहा कि मुझे बलि का बकड़ा बनाया गया।

इस बयान को लेकर भारत में सियासी तूफान खड़ा हो गया। इसलिए वित्त मंत्री को इस मामले में सफाई देनी पड़ी। गौरतलब है कि भारतीय बैंको से 9 हजार करोड़ का कर्जा लेकर भारत छोडकऱ फरार हुए किंगफिशर ग्रुप के मालिक विजय माल्या लंदन में शरण लिए हुए हैं। भारत द्वारा उनके प्रत्यपर्ण की मांग को लेकर लंदन की वेस्टमिंस्टर मैजिस्ट्रेट कोर्ट में सुनवाई चल रही है। प्रत्यर्पण पर अब 10 दिसंबर को फैसला सुनाया जाएगा।

विजय माल्या के इस आरोप का वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कड़ा खंडन किया । वित्त मंत्री अरुण जेटली ने माल्या के बयान को गलत बताया है। उन्होंने कहा कि माल्या राज्सभा सांसद हैं तो इसलिए वह लोकसभा के गलियारे में मात्र चालीस सेकंड के लिए उनसे रूबरू हुए थे। जेटली ने कहा कि 2014 के बाद उन्होंने माल्या को कभी मिलने का समय नहीं दिया, लेकिन माल्या ने राज्यसभा सदस्य के रूप में अपने विशेषाधिकार का गलत इस्तेमाल करते हुए संसद भवन के गलियारे में उन्हें रोककर बात करने की कोशिश की थी।

Loading...
loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *