राजस्थान: चुरू की युवती से तीन जगहों पर आठ दिन तक 9 लोगों ने किया दुष्कर्म

राजस्थान में महिलाओं और लड़कियों के साथ दुष्कर्म की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही है। बारां के मामले को लेकर प्रदेश में पहले ही गेहलोत सरकार के खिलाफ लोगों का गुस्सा तेज है और वहीं अब चूरू जिले से भी ऐसा ही मामला सामने आया हैं। जहां 19 वर्षीय युवती को अगवा कर सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया हैं। घटना में कुल नौ आरोपियों के शामिल होने की बात सामने आई हैं। पुलिस ने विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर लिया हैं।

जानकारी के अनुसार आरोपियों ने पीड़िता का अपराह्न कर आठ दिनों तक उसके साथ अलग-अलग जगहों पर ले जाकर दुष्कर्म किया। उन्होंने बालिका के साथ इन आठ दिनों में चूरू के राजगढ़, जयपुर और सीकर के नीमकाथाना में बंधक बनाकर बलात्कार किया। पीड़िता की रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने विक्रम पूनिया, देवेंद्र पूनिया, बंटी, राहुल, शुभम, हेमंत, मुकेश गुर्जर और दो अन्य के खिलाफ आईपीसी की संगीन धाराओं में मामला दर्ज कर लिया हैं।

राज्य में बढ़ रही दुष्कर्म की घटनाओं को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने गहलोत सरकार पर हमला बोला हैं। उन्होंने ट्वीट के माध्यम से लिखा ‘पिछले कुछ दिनों से राजस्थान मीडिया में ऐसी कोई हेडलाइन नहीं है, जिसमें दुष्कर्म की घटनाओं का जिक्र ना हो। अब चूरू के नवां गांव में सामूहिक दुष्कर्म की घटना ने ये साबित कर दिया है कि राजस्थान में जंगलराज की स्थिति चरम पर है तथा सरकार का पुलिस प्रशासन पर कोई नियंत्रण नहीं है।’

पुलिस ने बताया कि नौ आरोपियों में से एक पीड़िता का परिचित हैं। जिसने युवती को फॉर्म भरवाने के बहाने कार में बैठाया और अगवा कर राजगढ़ के एक मकान में ले आया। वहां पर अन्य लोगों के साथ मिलकर दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। आरोपियों ने युवती का अश्लील वीडियो भी बना लिया हैं। यही नहीं आरोपियों के द्वारा पीड़िता को जान से मारने की धमकी भी दी गई हैं। आरोपियों ने पीड़िता के साथ जयपुर के होटल में नशीला पदार्थ देकर दुष्कर्म किया।

यह भी पढ़े: देश में बनेंगे बेहतर टेक्नोलॉजी के मोबाइल फोन, सरकार ने 16 प्रस्तावों को दी मंजूरी
यह भी पढ़े: हाथरस गैंगरेप मामले की जांच कर रही SIT को मिला 10 दिन का अतिरिक्त समय

Loading...