सीधी बात: दो बार जमानत जब्त होने के सवाल बोले राकेश टिकैत?

आज तक के कार्यक्रम सीधी बात में प्रभु चावला ने किसान नेता राकेश टिकैत से चुनाव को लेकर भी कई सवाल किए। उन्होंने पूछा कि अक्टूबर तक जो आपने आंदोलन रखा है, यूपी में अगले साल चुनाव हैं, ये क्या उस तरफ बढ़ रहे हैं आप? अगले साल चुनाव लड़ेंगे या नहीं?

इस पर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि पहली बार निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ा था। दूसरी बार आरएलडी से चुनाव लड़ा। लेकिन दोनों बार जमानत जब्त हो गई।

टिकैत ने कहा – मुझे वोट देने का अधिकार है, तो चुनाव लड़ने का भी अधिकार है। लेकिन हमारे लिए चुनाव का कोई मतलब नहीं। न हमें चुनाव लड़ना है। चुनाव लड़ना बहुत बड़ी बीमारी है। हमारा ये है कि हमें लोगों ने चुनाव के लिए नहीं, बल्कि आंदोलन के लिए खड़ा किया है। आंदोलन पर विश्वास है।

टिकैत से जब पूछा गया कि यूपी चुनाव में वे किसका समर्थन करेंगे, तो टिकैत ने कहा – हम किसी का समर्थन नहीं करेंगे। हमारे इस आंदोलन से और राकेश टिकैत से कोई वोट की उम्मीद न करे। कोई इस गलतफहमी में न रहे कि हम किसी के वोट का कुछ करेंगे।

अगर किसान नेता राकेश टिकैत के चुनाव लड़ने की बात करें तो 2007 में उन्होंने पहली बार उन्होंने मुजफ्फरनगर की बुढ़ाना विधानसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ा था। हालांकि, इसमें उन्हें हार मिली थी। इसके बाद टिकैत ने 2014 में अमरोहा लोकसभा क्षेत्र से चौधरी चरण सिंह की पार्टी राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के टिकट पर चुनाव लड़ा, पर वहां भी उनकी बुरी तरह से हार हुई थी।

यह भी पढ़ें:

राकेश टिकैत ने एंकर से कहा – आप से खराब आदमी तो कोई हो ही नहीं सकता