राम-रहीम को मिली 24 घंटे की सीक्रेट पैरोल, बीजेपी के नेताओं को थी जानकारी

हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर की सरकार द्वारा रेप और हत्या के दोषी डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम को 24 घंटे की पैरोल देने का मामला सामने आया है। दरअसल यह पैरोल अपनी दो शिष्याओं का बलात्कार के मामले में रोहतक की सुनारिया जेल में सजा काट रहे गुरमीत राम रहीम को गुरुग्राम के एक अस्पताल में भर्ती अपनी बीमार मां से मिलने के लिए दी गई थी। 24 अक्टूबर को दी गई इस पैरोल के दौरान डेरा प्रमुख को बेहद कड़ी सुरक्षा में रखा गया।

सुनारिया जेल से गुरुग्राम के अस्पताल ले जाते समय डेरा प्रमुख के साथ भारी सुरक्षाबल तैनात रहा। अस्पताल में आरोपी अपनी मां के पास शाम तक रहा। जेल से अस्पताल तक ले जाने के लिए राम रहीम की सुरक्षा के लिए हरियाणा पुलिस की तीन कंपनियां तैनात की गई थी। गुरुग्राम पहुंचने पर पुलिस की गाड़ियों को अस्पताल के बेसमेंट में पार्क किया गया और फिर राम रहीम की मां का इलाज चल रहे उस पूरी मंजिल को भी पहले से ही खाली करा दिया गया।

इस पूरे मामले की जानकारी रोहतक के एसपी राहुल शर्मा ने दी हैं। उनके मुताबिक जेल अधीक्षक ने राम रहीम को गुरुग्राम ले जाने के लिए सुरक्षा की मांग की थी। जिसके बाद 24 अक्टूबर को सुबह से शाम तक उसे सुरक्षा दी गई। इस दौरान सा कुछ शांतिपूर्ण रहा और किसी को भनक तक भी नहीं लगी।

बताया जा रहा है कि राम रहीम की पैरोल की जानकारी केवल मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और हरियाणा सरकार के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों को ही थी। चौकाने वाली बात तो यह थी कि डेरा प्रमुख की सुरक्षा में लगाए गए जवानों को भी उसकी पहचान के बारे में पता नहीं था, जिसे वो एस्कॉर्ट कर रहे थे।

यह भी पढ़े: अश्लीलता फैलाने के मामले में मिलिंद पर FIR दर्ज, गोवा बीच पर लगाई थी न्यूड दौड़
यह भी पढ़े: विराट कोहली की असफलता पर बोले गंभीर, कप्तानी से हटाने का समय आ गया