कोविड-19 का सामना करने के लिए भोजन के इन विकल्पों में से चुनिए अनुशंसित खाद्य पदार्थ

भोजन के विकल्प

अनुशंसित खाद्य पदार्थ खाने से बचें (लेकिन स्वाद ग्रंथियों की संतुष्टि के लिए कभी-कभी ये चीजें खाई जा सकती हैं) गैर अनुशंसित भोजन
कच्चे या ताजे पके हुए रंगीन सब्जियों और फलों के रूप में रेशेदार भोजन (विटामिन ए, सी और ई के अच्छे स्रोत साथ ही ऑक्सीकरण रोधी फोलेट और फाइबर भी मौजूद)

(विकल्प -स्ट्रीमिंग, ग्रिलिंग, खाना पकाने के अन्य तरीके)

कम मसालेदार और तैलीय भोजन

 

लहसुन, प्याज और सीमित मात्रा में बेमौसमी सब्जियां

तला भूना, ज्यादा मसालेदार, ज्यादा पकाया या बासी भोजन
दलहन और साबुत अनाज (जौ, ब्राउन पास्ता, बाजरा और चावल और गेहूं की ताजी रोटियां ) ब्राउन ब्रेड रिफाइंड, प्रसंस्कृत अनाज (सफेद पास्ता एवं चावल और ह्वाइट ब्रेड, ज्यादा जमाया हुआ भोजन
कम वसा या घटाए हुए वसा वाले दूध और दही, योगर्ट (प्रोबायोटिक से भरपूर जो पाचन तंत्र को मजबूत रखता है) जैसे दुग्ध उत्पाद पौल्ट्री और मछली जैसी ह्वाइट मीट जिसमें सामान्यतः रेड मीट, प्रसंस्कृत मीट की तुलना में कम वसा होता है। (हालांकि यह सात्विक भोजन का हिस्सा नहीं है) रेड मीट
बिना नमक के नट्स और बीज (कद्दू, सुरजमुखी, अलसी के बीज) यह सब विटामिन ई, नियासिन, राइबोफ्लेविन, प्रोटीन, स्वस्थ वसा, ऑक्सीकरण रोधी और फाइबर के बड़े स्रोत हैं। इडली, डोसा, ढोकला, उपमा, दलिया, पी-नट बटर के साथ ब्राउन ब्रेड जैसे घर में बना कम वसा/ शर्करा वाले स्नैक्स ज्यादा नमक और चीनी युक्त स्नैक्स (कुकीज़, समोसा, केक, चॉकलेट) आचार, जैम
अंडे का पीला भाग और अनाज से भरपूर नाश्ता डिब्बाबंद भोजन अतिरिक्त नमक या चीनी हटाने के लिए धोने के बाद खाएं  
असंतृप्त वसा (मछली, एवोकैडो, नट्स,  जैतून का तेल, सूर्यमुखी और कॉर्न आयल) वसा लिए गए कुल ऊर्जा के 30% से कम होना चाहिए जिसमें से 10% से ज्यादा संतृप्त वसा नहीं होना चाहिए। संतृप्त वसा, वसा युक्त मांस, मक्खन, नारियल तेल, क्रीम, चीज और चरबी

 

रांस वसा (प्रसंस्कृत भोजन, फास्ट एंड फ्राइड फूड, स्नैक्स, फ्रोजन पिज़्ज़ा, कुकीज़, मार्जरीन (नकली मक्खन) और दावत
ताजा फलों का रस, कम वसा वाली लस्सी, नींबू पानी, नारियल पानी/ गर्म पानी, हर्बल चाय पॉलीफेनॉल्स, फ्लेवोनॉयड्स और एंटी ऑक्सीडेंट जो फ्री रेडिकल्स को नष्ट कर देते हैं।

 

 

शर्करा की अधिकता वाले साफ्ट ड्रिंक्स या सोडा  और अन्य ड्रिंक (उदाहरण- डिब्बाबंद फलों का रस, फल रस सांद्र एवं सीरप, फ्लेवर्ड मिल्क और पानी, एनर्जी एंड स्पोर्ट्स ड्रिंक्स और कैफीन युक्त योगर्ट ड्रिंक्स) अल्कोहल, तंबाकू, ड्रग्स,
शहद और गुड़ ब्राउन शुगर चीनी
भारतीय औषधियां:-

धनिया, हल्दी, मेथी,  तुलसी, लोंग, कालीमिर्च, दालचीनी, अदरक और कड़ी पत्ता।

इन मसालों में एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी बैक्टीरियल, एंटी फ्लेमेट्री गुण होते हैं। प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और शरीर से किसी भी पदार्थ को निकालने में मददगार होते हैं ।

रॉक साल्ट रोज 5 ग्राम (1 चम्मच के बराबर) लेना चाहिए ।

आयोडीन युक्त नमक बिना आयोडीन वाला नमक

भारत सरकार के आयुष मंत्रालय के मौजूदा दिशा-निर्देश सुरक्षात्मक स्वास्थ्य उपायों और प्रतिरक्षा तंत्र को मजबूत करने के लिए स्वयं ध्यान रखने के दिशा निर्देश दिए हैं। इन दिशानिर्देशों में कोविड-19 के खिलाफ प्रतिरक्षा बढ़ाने के उपायों के रूप में हर्बल चाय और तुलसी, दालचीनी, कालीमिर्च, सौंठ (सूखी अदरक) और मुनक्का का काढ़ा जिसमें स्वाद के लिए गुड़ और /या ताजा नींबू रस मिला हो, पीने की सलाह दिया गयाा है। इन दिशानिर्देशों में ठंडा जमा हुआ और गरिष्ठ भोजन खाने से बचने की सलाह दी गई है जो साफ संकेत है कि राजसी  और तामसी भोजन से बचा जाए । पर्याप्त विश्राम, समय से सोना, खुले में धूप लेना और योगासन एवं प्राणायाम के अभ्यास जैसी सलाह हमारे शरीर, दिमाग और जीवनशैली को संतुलित करने में मदद करेगी।

Loading...