किसान आंदोलन के मद्देनजर 15 अगस्त तक बंद रहेगा लाल किला

किसान नेताओं द्वारा घोषित आंदोलन के मद्देनजर केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस इस बार पूरी तैयारी कर रही है, ताकि पिछले बार जैसी स्थित फिर न उत्पन्न हो जाए। एहतियात में एक ओर जहां भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) ने अपने अधिकारों का प्रयोग करते हुए दिल्ली के लाल किला को आज 21 जुलाई से लेकर आगामी 15 अगस्त तक लिए बंद कर दिया है, तो दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस ने दिल्ली में प्रवेश करने वाले सभी मार्गों पर गस्त को बढ़ा दिया है। ज्ञात हो कि किसानों ने कल 22 जुलाई से संसद के मॉनसून सत्र के समाप्ति तक आंदोलन की घोषणा की है।

किसान आंदोलन और सोमवार से शुरू हुए संसद के मानसून सत्र को देखते हुए दिल्ली पुलिस ने राजधानी में पहले से ही सिंघू, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डरों पर सुरक्षा बढ़ा दी है। इसी कड़ी में रविवार 19 जुलाई की रात को दिल्ली पुलिस आयुक्त बालाजी श्रीवास्तव ने 30,000 से अधिक पुलिसकर्मियों के साथ शहर भर में गश्त भी की थी।

किसान आंदोलन के लिए अपनी तैयारियों के बारे में बात करते हुए दिल्ली पुलिस अतिरिक्त डीसीपी (उत्तर) अनीता राय ने कहा,  ‘हम स्पेशल ब्रांच, आईबी के संपर्क में हैं। उत्तर जिले की सभी सीमाओं पर ट्रिपल लेयर की व्यवस्था की जाएगी। लाल किले की ओर जाने वाली सड़कों पर किसान विरोधी दृष्टिकोण से मजबूत बैरिकेडिंग बनाए जाएंगे।”

अनीता रॉय ने आगे कहा कि 15 अगस्त को सुरक्षा व्यवस्था सुरक्षा जांच के लिए कर्मचारियों की तैनाती दो माह से लागू है। बाजारों में, चांदनी चौक क्षेत्र के पास और लाल किले के अंदर आंतरिक जांच की जा रही है। (लाल किला को 21 जुलाई से 15 अगस्त तक के लिए बंद कर दिया गया है)

जम्मू-कश्मीर में भारतीय सुरक्षाबलों के लिए सर दर्द बनी ड्रोन के खतरे को देखते हुए दिल्ली में भी ड्रोन रोधी तकनीक पर काम किया जा रहा है। इस बारे में अनीता रॉय ने कहा कि 15 अगस्त को सुरक्षा व्यवस्था पर ड्रोन विरोधी चुनौती का मुकाबला करने के लिए सभी कर्मचारियों को संदिग्ध वस्तुओं का जवाब देने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है। वायु सेना, एनएसजी, डीआरडीओ के साथ समन्वित प्रशिक्षण प्रगति पर है। इसके आगे की व्यवस्था के तहत ड्रोन रोधी कवरेज को भी लागू किए जाने पर विचार हो रहा है।

यह भी पढ़े- ओलंपिक: 15 महिला टेनिस खिलाड़ी के बीच में होगी भिड़ंत