रूस ने बना ली कोरोना वैक्सीन, राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की बेटी को लगाया टीका

रूस दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन बनाने वाला देश बन गया है। राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने दावा किया है कि आज सुबह दुनिया में पहली बार कोरोना वायरस के खिलाफ एक टीका पंजीकृत किया गया है। पुतिन ने कहा कि ये टीका आवश्यक परीक्षणों से गुजरा है और इसका पहला टीका उनकी दो बेटियों में एक को लगाया गया है, जिसके बाद वह अच्छा महसूस कर रही है। इससे पहले उप स्वास्थ्य मंत्री ओलेग ग्रिडनेव ने आज वैक्सीन रजिस्ट्रेशन की बात कही थी।

रूसी अधिकारियों का कहना है चिकित्सा कर्मचारी, शिक्षक और अन्य जोखिम समूह को सबसे पहले यह टीका लगाया जाएगा। रूस में वैक्सीन के चिकित्सा परीक्षणों की शुरुआत 18 जून को शुरू की गई थी जिसमें 38 लोग शामिल हुए। पहले समूह को 15 जुलाई और दूसरे को 20 जुलाई को छुट्टी दी गई। परिक्षण के दौरान जिन लोगों को वैक्सीन का डोज दिया गया तो उन सभी में रोग-प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो गई थी और वे खुद को स्वस्थ महसूस करने लगे।

रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने कहा कि देश में चिकित्सीय पेशेवरों को इस महीने टीका लगाया जा सकता है। वही रूस के उप प्रधानमंत्री तात्याना गोलिकोवा ने सितंबर में कोरोना वायरस के ‘औद्योगिक उत्पादन’ शुरू करने का वादा किया है। भले ही रूस कोरोना वैक्सीन बनाने का दावा कर रहा है लेकिन अभी भी अन्य देशों को विश्वास नहीं हो रहा है। अगर रूस का दावा सही साबित होता है तो यह वैश्विक माहमारी की जंग में एक बड़ी सफलता होगी।

यह भी पढ़े: उत्तर प्रदेश में बीजेपी कार्यकर्ता की दिनदहाड़े सरेआम हत्या, इलाके में मचा हड़कंप
यह भी पढ़े: मंगलवार को गृहस्थ और बुधवार को वैष्णव मनाएंगे जन्माष्टमी, ऐसें करें कृष्ण पूजा