शिक्षा की अलख जगाने में लगे हैं संजय और जतिन :प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

नयी दिल्ली (एजेंसी/वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विद्या दान को समाज हित में सबसे बड़ा काम बताते हुए आज कहा कि उत्तर प्रदेश के जतिन ललित सिंह और झारखंड के संजय कश्यप बच्चों को किताबें तथा अन्य जरूरी सामग्री मुहैया करा कर शिक्षा के क्षेत्र में अलख जगा रहे हैं।

श्री मोदी ने रविवार को यहां मासिक रेड़ियो कार्यक्रम मन की बात में संजय और जतिन की सराहना करते हुए कहा अगर कोई विद्या का दान कर रहा है, तो वो समाज हित में सबसे बड़ा काम कर रहा है शिक्षा के क्षेत्र में जलाया गया एक छोटा सा दीपक भी पूरे समाज को रोशन कर सकता है।

मुझे यह देखकर बहुत खुशी होती है कि आज देश-भर में ऐसे कई प्रयास किए जा रहे हैउन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले के जतिन ललित सिंह अपने गांव बांसा में सामुदायिक पुस्तकालय तथा रिसोर्स सेंटर चलाकर बच्चों के जीवन को संवारने का काम कर रहे हैं।

उनके इस सेंटर में हिंदी और अंग्रेजी साहित्य, कंप्यूटर, कानून और कई सरकारी परीक्षाओं की तैयारियों से जुड़ी 3000 से अधिक किताबें मौजूद हैं यहां बच्चों के लिए कॉमिक और शैक्षणिक खिलौने भी हैं। इस केन्द्र में करीब 40 स्वयंसेवक बच्चों का मार्गदर्शन कर रहे हैं।

केन्द्र में करीब 80 बच्चे हर रोज आते हैं प्रधानमंत्री ने कहा कि इसी तरह झारखंड के संजय कश्यप भी गरीब बच्चों के सपनों को नई उड़ाने दे रहे हैं।उन्होंने कहा,“ अपने विद्यार्थी जीवन में संजय जी को अच्छी पुस्तकों की कमी का सामना करना पड़ा था।

ऐसे में उन्होंने ठान लिया कि किताबों की कमी से वे अपने क्षेत्र के बच्चों का भविष्य अंधकारमय नहीं होने देंगे।
अपने इसी मिशन की वजह से आज वो झारखंड के कई जिलों में बच्चों के लिए ‘लाइब्रेरी मैन’ बन गए हैं श्री मोदी ने कहा कि संजय जी नौकरी करते हैं और उनका जहां भी तबादला होता है वह वहां गरीब बच्चों के लिए एक पुस्तकालय बनाने में जुट जाते हैं।

इस तरह उन्होंने झारखंड के कई जिलों में बच्चों के लिए लाइब्रेरी खोल दी है। प्रधानमंत्री ने कहा,“ लाइब्रेरी खोलने का उनका यह मिशन आज एक सामाजिक आंदोलन का रूप ले रहा है। संजय जी हो या जतिन जी ऐसे अनेक प्रयासों के लिए मैं उनकी विशेष सराहना करता हूं।

एजेंसी/वार्ता

यह भी पढ़े: मस्कुलर डिस्ट्रॉफी के मरीजों के लिए उम्मीद की किरण है मानव मंदिर : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी