उधार चुकाने और कई मिन्नतों के बाद भी सऊदी अरब नहीं दे रहा पाक को कच्चा तेल

वैश्विक स्तर पर आतंक की पहचान बन चुके पाकिस्तान को सऊदी अरब ने बड़ा झटका दिया है। दरअसल, सऊदी अरब से पाकिस्तान को मई से लेकर अभी तक उधार कच्चा तेल नहीं मिला है। यही नहीं उसे आपूर्तिकर्ता की तरफ से इस सुविधा को जारी रखने के बारे में भी किसी तरह का जवाब नहीं मिला है।

रिपोर्ट की माने तो दोनों देशों के बीच इस बाबत 3.2 अरब डॉलर के समझौते की मियाद दो महीने पहले ही खत्म हो चुकी है। जिसके बाद पाकिस्तान ने सऊदी से इस व्यवस्था को आगे जारी रखने का आग्रह किया है। लेकिन उसे सऊदी की तरफ से कोई जवाब नहीं मिल रहा है।

खबरों के मुताबिक मुताबिक सऊदी अरब ने नवंबर, 2018 में पाकिस्तान की बाहरी क्षेत्र की चिंता को दूर करने के लिए 6.2 अरब डॉलर के पैकेज की घोषणा की थी। सऊदी अरब से 3.2 अरब डॉलर की कच्चे तेल की सुविधा भी इसी पैकेज का हिस्सा है। लेकिन अब यह करार मई में समाप्त हो चुका है। पेट्रोलियम विभाग के प्रवक्ता साजिद काजी ने बताया कि वित्त विभाग इसके नवीकरण का प्रयास कर रहा है। पाकिस्तान को भी सऊदी से जवाब का इंतजार है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान ने समय से चार महीने पहले एक अरब डॉलर का सऊदी अरब का कर्ज चुका दिया है। बजट अनुमानों के अनुसार पाक सरकार को वित्त वर्ष 2020-21 में कम से कम एक अरब डॉलर का कच्चा तेल प्राप्त होने की उम्मीद है। बता दे पाक एक वित्त वर्ष जुलाई से शुरू होता है।

यह भी पढ़े: युजवेंद्र चहल की शादी हुई पक्की, पेशे से कॉरियोग्राफर और डॉक्टर है उनकी दुल्हन
यह भी पढ़े: 2014 से पहले आता कोरोना वायरस तो लॉकडाउन लगाना असंभव होता: PM मोदी