धूम्रपान की लत को ऐसे कहें अलविदा

इस बात से तो हम सभी वाकिफ हैं कि धूम्रपान कई गंभीर बीमारियों का कारण बनता है और इसलिए व्यक्ति को धूम्रपान न करने की सलाह दी जाती है। लेकिन जहां तक बच्चों की बात है तो जैसे ही वह जवानी की दहलीज पर कदम रखते हैं तो नए-नए एक्सपेरिमेंट करने की ललक उनके मन में जागती है। जिसके कारण वह स्मोकिंग करते हैं। धीरे-धीरे यह उनकी लत बन जाती है, जिससे उन्हें बाहर निकालना काफी मुश्किल होता है। ऐसे में आप कुछ टिप्स अपनाकर उन्हें इस बुराई से दूर कर सकते हैं-

बच्चों को ऐसे कार्यक्रम में शामिल करें, जिनमंे आत्मनियंत्रण के साथ-साथ असामाजिक व्यवहार के प्रति बताया जाता हो।

बच्चों को बचपन से ही अच्छे संस्कार दिए जाने आवश्यक है। चूंकि बड़े होते-होते बच्चे कुछ नया करने की फिराक में रहते हैं, इसलिए उन्हें पहले से धूम्रपान व मदिरा पान के दुष्परिणामों के बारे में बताएं। आप चाहें तो उन्हें कुछ ऐसे लोगों से भी मिलवा सकते हैं, जिन्होंने इनके सेवन के चलते काफी नुकसान उठाया हो। इससे वह इन सभी बुराईयों से दूर ही रहेंगे।

बच्चों के साथ दोस्ताना व्यवहार रखें और उनके दोस्तों को घर पर बुलाएं। इससे आपको यह पता चलेगा कि आपके बच्चे की संगत कैसी है। कई बार बच्चे पीयर प्रेशर में आकर भी धूम्रपान करते हैं, इसलिए बच्चों के दोस्त भी उतने ही अच्छे होने बेहद जरूरी है।