एनडीए में सीटों के बंटवारे का कभी भी हो सकता है ऐलान, सीट बँटवारे का गणित तैयार

आगामी बिहार विधानसभा चुनाव के मद्द्येनजर एनडीए में सीट शेयरिंग पर मंथन जारी है। NDA का कौन सा घटक दल कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेगा इसको लेकर बीजेपी के बड़े नेताओं के बीच सीट बंटवारे पर चर्चा की गई। गौरतलब हो कि कुछ दिनों बाद पार्टी अध्यक्ष बिहार विधानसभा चुनाव कि तैयारियों कि समीक्षा के लिए बिहार का दौरा करने वाले है। सूत्रों के मुताबिक इस दौरान 110, 100 और 33 के फार्मूले पर बीजेपी के आलाकमान कि सहमति बनी है। इसका मतलब यह है कि जदयू 110 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार सकती है। वहीं भारतीय जनता पार्टी 100 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है और लोजपा को  33 सीटें देने कि बात पार्टी नेताओं हुई है। अब तीनों दलों के हाईकमान के साथ मे बैठक के बाद ही कुछ फ़ाइनल हो सकता है।

तीनों दलों के नेताओं की बैठक के बाद ही सीट बंटवारे पर बनी सहमति का औपचारिक ऐलान किया जाएगा। 2020 के चुनाव में जदयू एक बार फिर एनडीए के साथ है। बिहार की सत्ता में 15 साल से काबिज जनता दल युनाइटेड बिहार में एनडीए के बड़े भाई की भूमिका में है। लंबे समय तक लगातार बिहार के मुख्यमंत्री रहे नीतीश कुमार ने  2015 में महागठबंधन बनाकर राजद और कांग्रेस के साथ चुनाव लड़ा था। उस समय स्थितियां एनडीए से भिन्न थी। 2015 में जदयू 100, राजद 100, कांग्रेस 40 और एनसीपी 3 का फॉर्मूला महागठबंधन ने तय हुआ था लेकिन तारिक अनवर के खुद को महागठबंधन से अलग करने के बाद बनी स्थिति में तीनों दलों के पास एक-एक सीट और चली गई थी. तब जदयू ने 101 सीट पर प्रत्याशी दिए और 71 सीटों पर जीत दर्ज की वैसे तो राजनीति मे हमेशा समीकरण बदलते ही रहते हैं। अब इस बार देखने वाली बात ये होगी कि एनडीए के सभी घटक दलों मे सीटों को लेकर सहमति बनती है कि नहीं।