Breaking News
Home / ज़रा हटके / Uber की सेल्फ ड्राइविंग टेक्नोलॉजी हुई फेल, जानिए क्यों?

Uber की सेल्फ ड्राइविंग टेक्नोलॉजी हुई फेल, जानिए क्यों?

पिछले साल कैब एग्रीगेटर Uber की एक सेल्फ ड्राइविंग कार का एक्सीसेंडट हुआ था जिसमें कार ने एक पैदल चलते हुए यात्री को टक्कर मार दी थी। इस टक्कर के बाद से ही सेल्फ ड्राइविंग कारों के भविष्य को लेकर बहुत सारे सवाल खड़े हो गए थे। वहीं अब अमेरिकी जांच एजेंसियों की रिपोर्ट में एक नया खुलासा सामने आया है।

मार्च 2018 में हुआ था हादसा

ख़बरों कि माने तो मार्च 2018 को घटित Uber की सेल्फ ड्राइविंग कार के सॉफ्टवेयर में कुछ कमी पाई गई है। यूएस नेशनल ट्रांसपोर्टेशन सेफ्टी बोर्ड की तरफ से जारी 400 पन्नों की रिपोर्ट में बताया गया है कि 49 वर्षीय एलेना हर्जबर्ग की उस वक्त हादसे में मौत हो गई थी, जब एरिजोना के टेंपे इलाके में रात में साइकिल से सड़क पार कर रही थीं।

Loading...

5.6 सेकंड पहले दिया था संकेत

रिपोर्ट में बताया गया है कि Uber के सॉफ्टवेयर में खामियां थी, जिसके चलते ये हादसा हुआ। सॉफ्टवेयर में सबसे बड़ी खामी यह थी कि उसे इस तरह से डिजाइन नहीं किया गया था कि वह ट्रैफिक के दौरान सड़क पार कर रहे लोगों की पहचान कर सके जिससे कोई हादसा न हो रिपोर्ट में कहा गया है कि व्हीकल के रेंडार सेंसर ने घटना से 5.6 सेकंड पहले लेन में घुसने से हर्जबर्ग को देख लिया था, लेकिन सिस्टम ने आखिरी वक्त में व्हीकल की क्लासिफिकेशन को बदल दिया था, और यह भांपने में बिल्कुल विफल रही कि वह टेस्ट एसयूवी के रास्ते को आ जाएगी।

हादसे के दौरान कार में ही था ड्राइवर

Uber की सेल्फ ड्राइविंग टेक्नोलॉजी की इतनी बड़ी असफलता से यह साबित हो गया है कि सॉफ्टवेयर को इस मुताबिक डिजाइन ही नहीं किया गया कि मनुष्य कैसे काम करते हैं इस बात को सही तरह जाने। हवाई जहाजों और बड़े ट्रक हादसों की जांच करने वाली अमेरिका की स्वतंत्र एजेंसी एनटीएसबी ने इस हादसे की लगभग 20 महीनों तक जांच की। हादसे के दौरान एक ड्राइवर कार को ऑपरेशन और सॉफ्टवेयर को मॉनिटर कर रहा था। इसके अलावा कंपनी ने कार में बिल्ट-इन वॉल्वो ब्रेकिंग सिस्टम को बंद कर दिया था, जो कार हिट होने से पहले ही उसकी स्पीड को कम कर देता था।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *