सर्दियों में गरमाहट और तंदुरुस्ती के लिए लाभदायक है तिल के लड्डू, जानिए इसे बनाने की विधि !

सर्दियां शुरू हो चुकी हैं, ऐसे में तिल के व्यंजनों की महक आने लगी है। क्योंकि सर्दियों में तिल और मूंगफली का सेवन किया जाता है। इन चीजों से शरीर को अंदरूनी गर्मी मिलती है। सर्दी बढऩे के साथ-साथ लोगों के खान पान में बदलाव आने लग गया है। इसमें सबसे अधिक तिल के व्यंजनों को काम में लाया जा रहा है। तिल शरीर को गर्मी देने के साथ ही शरीर को तंदुरुस्त रखता है तथा शारीरिक गरमाहट लाता है।

राजस्थान संस्कृति जहां अपनी विविधता तथा समृद्धता के लिए मानी जाती है वही इसका खान पान भी देशभर में प्रसिद्ध है। सर्दी बढ़ते ही तिल के कारोबार में भी रौनक आई है। बाजारों में अलग अलग 20 से 25 प्रकार की तिल के व्यंजन बाजारों में बिक रही है। गुड़ गजक, बीकानेर की तिल पापड़ी, अजमेर की डॉयफ्रूइट गजक, पिस्ता गजक। आमतौर पर शरद ऋतू आते ही तिल के व्यंजन बाजारों में बिकना शुरू हो जाते है लेकिन इस बार सर्दी लेट आने से इनके व्यंजनों पर भी प्रभाव पड़ा है।

बाजारों में तिल ने अब जोर पकड़ा है वही माना जाता है की Makar Sankranti  पर तिल के व्यंजन बनाना शुभ रहता है। पहले कम ही जगहों पर गजक को बनाया जाता था लेकिन अब गली गली में गजक को बनाते और बेचते हुए मिल जाएंगे। चीनी तथा गुड़ दोनों में गजक को बनाया जाता लेकिन गुड़ की गजक को अधिक पसंद किया जा रहा है। सर्दी बढऩे के साथ ही गजक की दुकानों पर भीड़ के साथ ही अलग-अलग गजक भी उपलब्ध है।

तिल के लड्डू बनाने का तरीका :

आवश्यक सामग्री

  • तिल – 2 कप (250 ग्राम)
  • गुड़ – 1 कप (250 ग्राम)
  • काजू- 2 टेबल स्पून
  • बादाम- 2 टेबल स्पून
  • छोटी इलाइची – 7 से 8 (पिसी हुई)
  • घी – 2 छोटी चम्मच

तिल भूनिए 

कड़ाई मे तिल को Medium आंच पे भूनिए जब तक उसका रंग हल्का भूरा ना हो जाए | तिल जले नहीं, इसका ध्यान रखे |

तिल पीसिए

भुने तिल मे से आधा तिल को कूट लीजिये और बाकी का आधा तिल के साथ मिला दीजिये |

गुड़ पिघलाइए 

गुड़ के जरा से ठंडा होने के बाद इसमें भुने कुटे हुये तिल अच्छी तरह मिलाइये. फिर, इसमें काजू बादाम और इलाइची का पाउडर भी मिक्स    कर दीजिए. गुड़ तिल के लड्डू बनाने का मिश्रण तैयार है. इसे कढ़ाई से एक प्लेट में निकाल लीजिए और जरा सा ठंडा होने दीजिए.

लड्डू बांधिए

हाथ मे घी लगाकर थोड़ा चिकना कर ले ,लगभग एक टेबल स्पून उठाइये (लड्डू गरम मिश्रण से ही बनाने पड़ते हैं, मिश्रण ठंडा होने पर जमने लगता है और लड्डू बनाना मुश्किल होता है). गोल लड्डू बनाकर थाली में लगाइये, सारे मिश्रण से लड्डू बनाकर थाली में लगा लीजिये.

अब लड्डू तैयार है आप इसे 4-5 घंटे खुले हवे मे रखने के बाद इसका सेवन केआर सकते है, उसके बाद इसे टाइट कंटेनर मे रखकर 2-3 महीने इसका इस्तेमाल कर सकते है |

यह भी पढ़ें-

अल्जाइमर जैसी बीमारी से बचने के लिए अपनाएं ये आदतें