Breaking News
Home / ट्रेंडिंग / विपक्ष का नागरिकता कानून पर विरोध या वोटों के लिए दिखावा

विपक्ष का नागरिकता कानून पर विरोध या वोटों के लिए दिखावा

देश में नागरिकता कानून को लेकर विपक्ष की बैठक हुई। हालांकि कुछ विपक्षी पार्टियों ने बैठक में हिस्सा नही लिया। बैठक के बाद जो सवाल उठने लगा। उससे साफ हो जाता हैा कि विरोध तो नाममात्र का है। असल बजह है दिल्ली का चुनाव। दिल्ली में 8 फरवरी को चुनाव होने है। इसके लिए सभी राजनितिक पार्टिया अपने-अपने प्रचार में जुडी है। नागरिकता कानून के खिलाफ सोमवार को कांग्रेस अघ्य़क्ष सोनिया गांधी ने एक बैठक बुलाई थी। कहा जा रहा था कि  इस बैठक में सभी विपक्षी पार्टिया हिस्सा लेगी। लेकिन ऐसा कुछ नही हुआ। पश्चिम बगांल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने साफ तौर पर इस बैठक में आने के लिए मना कर दिया था। तो वही बसपा सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस पर विश्वासघात का आरोप भी लगाया था।

बैठक में शामिल पार्टियों में प्रमुख पार्टिया एनसीपी प्रमुख शरद पवार, माकपा के सीताराम येचुरी, भाकपा के डी राजा, झामुमो के नेता एवं झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन,  आरजेडी के मनोज झा, नेशनल कांफ्रेस के हसनैन मसूदी और रालोद के अजित सिंह,  लोकतांत्रिक जनता दल के शरद यादव, उपेंद्र कुशवाहा शामिल थे। इस बैठक समाजवादी पार्टी, बीएसपी, शिवसेना डीएमके, बीएसपी, आम आदमी पार्टी और टीएमसी शामिल नही हुई।

Loading...

वही मायावती ने कहा कि जिस तरह उनके विधायकों को राजस्थान में जोड़ा-तोड़ा गया और हमारे साथ विश्ववासघात किया गया। और जिस तरह प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में अपना वर्चस्व कायम करने में लगी हुई है उससे भी मायावती काफी नाराज दिख रही है। दूसरी तरफ आम आदमी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा कि उन्हे इस बैठक में आने का न्यौता नही दिया गया था। न्यौता देने वाली बात पर अभी तक कांग्रेस की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नही आई है। शायद दिल्ली के चुनाव को मद्देनज़र रखते हुए दोनों पार्टिया एक-दूसरे से दूरी बना कर रखना चाहती है।

फिलहाल तो 10 जनवरी को केन्द्र सरकार ने नागरिकता कानून को पूरे देश में प्रभावी कर दिया है। जिसके तहत कहा गया है कि अगर कोई धार्मिक प्रताड़ना से ग्रस्त शरणयार्थी 31 दिसंंबर 2014 तक भारत में  आकर बस चुका है। वह नागरिकता के लिए अप्लाई कर सकता है। पहले किसी भी नागरिक को अगर भारत की नागरिकता चाहिए होती थी। उसे 11 वर्ष भारत में रहना होता था। लेकिन अब  यह समय सीमा कम कर दी है। अगर आप 6 वर्ष से भारत में रह रहे है तो आप भारतीय नागरिकता के लिए अपना आवेदन कर सकते है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *