Home / ज़रा हटके / शुभ फल पाने के लिए, कौन सी माला से कौन से देवता का मंत्र जपें?

शुभ फल पाने के लिए, कौन सी माला से कौन से देवता का मंत्र जपें?

हिंदू धर्म में पूजा के दौरान लोग विभिन्न तरह की मालाओं का जप करते हैं ताकि उनका मन शांत और एकाग्रचित हो सके. ऐसे में कई लोग रुद्राक्ष, स्फटिक,चंदन और तुलसी आदि की मालाओं का प्रयोग करते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि अलग-अलग मालाओं से मंत्र जाप करने से अलग-अलग लाभ होते हैं. तो चलिए आपको बताते हैं कौन-सी माला का जप करने से कौन-सा लाभ मिलता है.
रुद्राक्ष की माला
हिंदू धर्म में रुद्राक्ष की माला को सर्वोत्तम माला माना जाता है. इस माला से किसी भी मंत्रा का जाप आसानी से किया जा सकता है और इससे पूर्ण फल की प्राप्ति होती है.इस माला से लोग भगवान भोलेनाथ के मंत्रों का जाप करते हैं. आमतौर पर रुद्राक्ष माला से लोग महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते हैं.
हल्दी माला
गुरुवार के दिन भगवान बृहस्तपति और मां बगलामुखी के मंत्रों का जाप हल्दी की माला के साथ ही किया जाता है. मनोकामना पूर्ण करने के लिए हल्दी की माला का जाप किया जाता है. हल्दी की माला से विद्या प्राप्ति, संतान प्राप्ति और ज्ञान प्राप्ति के लिए मंत्रोच्चारण किया जाता है.

Loading...

स्फटिक माला
मां लक्ष्मी के मंत्र जाप के लिए इस माला का प्रयोग किया जाता है. स्फटिक की माला से धन प्राप्ति और मन की एकाग्रता के लिए मंत्रोच्चारण किया जाता है.
चंदन की माला
मां दुर्गा के मंत्र का जाप लाल चंदन की माला से किया जाता है वहीं भगवान कृष्ण के मंत्रों का जाप सफेद चंदन की माला से किया जाता है. राहु की महादशा में सफेद चंदन की माला को पहना जाता है.
तुलसी की माला
तुलसी की माला द्वारा भगवान विष्णु के मंत्र का जाप किया जाता है. इसलिए यह माला बहुत महत्वपूर्ण है.तुलसी की माला धारण करने पर हमेशा वैष्णव रहना चाहिए.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *