टिकटॉक बैन के बाद स्वदेशी एप निर्माताओं की हुई चांदी, करोड़ों में पहुंची यूजर्स संख्या

चीनी एप्स को बैन किये जाने के बाद भारत के स्वदेशी एप निर्माताओं की चांदी हो गई है। इसमें सबसे ज्यादा फायदा टिकटॉक को रिप्लेस करने के लिए उतारी गई देशी ऍप्लिकेशन्स को हुआ है। इनमें रोपोसो, चिंगारी और मित्रों प्रमुख है। रोपोसो और चिंगारी के तो देखते ही देखते लाखों की संख्या में डाउनलोड हो गए है। रोपोसो ने तो टिकटॉक बैन होने के दो दिनों बाद ही 2.2 करोड़ डाउनलोड कर लिए है। वही चिंगारी अब तक 1.1 करोड़ आंकड़ा पार कर चुके है।

टिकटॉक बैन की घोषणा के बाद चिंगारी के 30 मिनट में 10 लाख तक डाउनलोड हो गए थे। वही लॉन्च के डेढ़ साल बाद तक यह एक लाख का आंकड़ा इस पार कर सका था। चिंगारी के सहसंस्थापक सुमित घोष ने खुशी जताते हुए कहा है कि जिस तेजी इ चिंगारी के यूजर्स बढ़े है, उस हिसाब से तो प्रति घंटा छह लाख डाउनलोड कभी फेसबुक एप के भी नहीं हुए होंगे। रोपोसो के संस्थापक मयंक भानगढ़िया को जल्द ही 10 करोड़ का आंकड़ा पार करने की उम्मीद है।

2014 से एंड्रॉयड पर मौजूद रोपोसो के अभी आठ करोड़ से ज्यादा डाउनलोड हैं। इस एप को लोकप्रियता उद्योगपति आनंद महिंद्रा के 28 जून को किये गए ट्वीट के बाद मिली। बढ़ती मांग से तकनीकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए रोपोसो और चिंगारी एप मालिकों को दिन-रात मेहनत करनी पड़ रही है।

यह भी पढ़े: स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, अमेरिका भारत से बहुत प्यार करता है
यह भी पढ़े: जीरा रखता है आपके वजन को संतुलित