पूरी दुनिया के 93% बोतलबंद पानी में पाए गए प्लास्टिक के छोटे-छोटे कण

Row of plastic bottles with clear purified drink carbonated water isolated on white background with selective focus effect

बिकने वाली पानी की बोतलों में प्लास्टिक के कण पाए गए हैं। अमेरिका की एक स्टेट यूनिवर्सिटी द्वारा किये गए एक शोध की रिपोर्ट में इसका दावा किया गया है। विश्वभर से लिए गए बोतलबंद पानी के 93 फीसदी सैंपल में प्लास्टिक के कण पाए गए। इन सैंपल को भारत समेत नौ देशों में बोतलबंद पानी की आपूर्ति करने वाली 11 ब्रांड की कंपनियों से लिया गया था और अमेरिका की भी 27 अलग-अलग जगहों से 259 बोतलों की भी जांच की गई थी । भारत में 19 जगहों से लिए गए सैंपल की भी जांच की गई

जिनमे एक्वाफिना और बिसलरी जैसे बड़े ब्रांड भी शामिल हैं। चेन्नई के बिसलेरी के बोतल में प्रति लीटर में 5000 से ज्यादा माइक्रोप्लास्टिक कण मिले। शोधकर्ताओं के अनुसार, एक लीटर पानी की बोतल में औसत रूप से 10.4 माइक्रोप्लास्टिक कण पाए गए जो कि नल के पानी में पाए गए प्लास्टिक के कणों से दोगुना है।

एक्वाफिना और बिसलरी जैसे बड़े ब्रांड भी शामिल

इसमें जो तत्व पाए गए हैं उनका प्रयोग अक्सर बोतल का ढक्कन बनाने में होता है। रिपोर्ट में कहा गया है की पानी में ज्यादातर प्लास्टिक पानी को बोतल में भरते समय आता है।एक लीटर बोतलबंद पानी पीने वाला व्यक्ति साल भर में प्लास्टिक के 10 हजार सूक्ष्म कण ग्रहण कर लेता है। जो लोग केवल बड़े ब्रांड वाला पानी ही पीते हैं वह तकरीबन एक दिन में 2-3 लीटर पानी पीते होंगे जो की खतरनाक साबित हो सकता है।

यह भी पढ़ें:

सेहत के लिए बेहद गुणकारी होता है कच्चा पपीता, जानिए इसके फायदे

बालों से जुड़ी सभी समस्याओं का रामबाण इलाज है आलू का रस, जानिए लगाने का तरीका