फेफड़ो के लिए धूम्रपान बहुत ही नुकसानदायक होता है

जैसा की आप सभी जानते है की तंबाकू का किसी भी रूप में सेवन गंभीर बीमारियों को जन्म देता है। लेकिन तंबाकू से होने वाले प्रमुख फेफड़ों की बीमारी ब्रोंकाइटिस और एम्फीसेमा जो सिर्फ धूम्रपान करने वालों को होती हैं। ये बीमारियाँ कभी भी ठीक नहीं होती। इनकी वजह से साँस लेना बहुत ही दुश्वार होता चला जाता है। फेफड़ों में रुकावट के कारण साँस लेना भी बहुत मुश्किल हो जाता है। निमोनिया धूम्रपान करने वालों को होने वाली एक बहुत ही आम बीमारी है, जो अक्सर बहुत ही घातक साबित होती है।

धूम्रपान करने से रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा भी बहुत ज्यादा बढ़ जाती है साथ ही उच्च रक्तचाप की समस्या भी हमारे सामने खड़ी हो जाती है। धूम्रपान करने वालों को दिल के दौरे का जोखिम दूसरों की तुलना में तकरीबन तीन गुना अधिक होता है। जो लोग धूम्रपान करते हैं उनके पैरों की नसों में थक्के की रुकावट आने का जोखिम तकरीबन 16 गुना अधिक होता है। जो मरीज पैरों की नसों में थक्कों की रुकावट के प्रारंभिक चिन्हों को नजरअंदाज करते हैं उन्हें गैंगरीन होने की आशंका बहुत ही ज्यादा रहती है। दिमाग का दौरा दिमाग के दौरे से मरने वालों में 11 प्रतिशत मरीज धूम्रपान करने वाले रहे हैं। जो 20 या इससे अधिक सिगरेट या बीड़ी तकरीबन रोजाना पीते हैं उन्हें दिमागी दौरा पड़ने की आशंका दूसरों के मुकाबले लगभग डेढ़ गुना ज्यादा रहती है। फेफड़े का कैंसर दुनिया में कैंसर से होने वाली मौतों में सबसे बड़ा आँकड़ा फेफड़े के कैंसर का है। इसमें 80 प्रतिशत मौतें धूम्रपान की वजह से होती हैं। जैसे-जैसे प्रतिदिन सिगरेट पीने का आँकड़ा बढ़ता जाता है वैसे-वैसे फेफड़े का कैंसर होने की आशंका बढ़ती जाती है।

यह भी पढ़ें-

जानिए नारियल पनीर कोफ़्ता बनाने की विधि