अध्यक्ष ने भाजपा के चार विधायकों का निलंबन समाप्त किया, गतिरोध समाप्त

झारखंड विधानसभा के मॉनसून सत्र के पांचवें दिन गुरुवार भारतीय जनता पार्टी के निलंबित चार विधायकों भानु प्रताप शाही, ढुल्लू महतो , जयप्रकाश भाई पटेल और रणधीर सिंह का निलंबन वापस ले लिया गया।


इसके साथ ही निलंबन वापस लेने की मांग को लेकर सदन में चला आ रहा गतिरोध आज समाप्त हो गया।
पूर्वाह्न 11 बजे विधानसभा की कार्यवाही शुरू होने के साथ ही संसदीय कार्यमंत्री आलमगीर आलम ने भाजपा के चारों निलंबित विधायकों के निलंबन को वापस लेने का प्रस्ताव रखा। संसदीय कार्य मंत्री ने कहा कि सरकार यह चाहती है कि विपक्ष सदन में जनहित के मुद्दे और समस्याओं के समाधान को लेकर सकारात्मक सहयोग करें।

संसदीय कार्यमंत्री के प्रस्ताव पर विधानसभा अध्यक्ष रबींद्रनाथ महतो ने भाजपा के चारों विधायकों का निलंबन वापस लेने की घोषणा करते हुए कहा कि सहमति और असहमति संसदीय परंपरा का अलंकार है, परंतु विरोध का सयंमित और संसदीय परंपराओं के अनुकूल होना भी अत्यंत ही आवश्यक है। उन्होंने कहा कि किसी भी पीठासीन पदाधिकारी के लिए माननीय सदस्यों को सदन की कार्यवाही से निलंबित किया जाना अत्यंत ही दुःखद है,

परंतु सदन की गरिमा और संवैधानिक परंपराओं की रक्षा के लिए यह कदम कभी-कभी ना चाहते हुए भी उठाना पड़ता है। उन्होंने कहा कि जिन चार सदस्यों भानू प्रताप शाही, ढुल्लू महतो, जय प्रकाश भाई पटेल और रणधीर कुमार सिंह को 4 अगस्त तक सदन से निलंबित किया गया था, उनसभी का तत्काल प्रभाव से उनका निलंबन समाप्त किया जाता है।


इससे पहले 2 अगस्त को मॉनसून सत्र की कार्यवाही के दौरान सदन की कार्यवाही को बाधित करने और शोर-शराबा करने के कारण अध्यक्ष ने भाजपा के चारों विधायकों को 4 अगस्त तक के लिए सदन से निलंबित करते हुए उनके कार्यवाही में भाग लेने पर रोक लगा दी थी। लेकिन निलंबन समाप्त किये जाने के बाद भाजपा के चारों विधायकों को आज से ही सदन की कार्यवाही में भाग लेने की अनुमति मिल गयी।