तुरंत बंद करो सैन्य अभ्यास, नैन्सी पेलोसी से मुलाकात के बाद जापान ने चीन को हड़काया

जापान के प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को ताइवान के आसपास सैन्य अभ्यास के दौरान चीन द्वारा बैलिस्टिक मिसाइलों की गोलीबारी की निंदा की है। उन्होंने कहा, “यह एक गंभीर समस्या है जो हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा और हमारे नागरिकों की सुरक्षा को प्रभावित करती है।” टोक्या ने कहा कि पांच चीनी मिसाइलें देश के विशेष आर्थिक क्षेत्र में गिर गई हैं। इनमें से चार को ताइवान के मुख्य द्वीप पर उड़ाया गया था।

प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने अमेरिकी सदन की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी से नाश्ते पर मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा, “इस बार चीन की कार्रवाइयों का हमारे क्षेत्र और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की शांति और स्थिरता पर गंभीर प्रभाव पड़ा है। मैंने उनसे कहा सैन्य अभ्यास को तत्काल रद्द करने का आह्वान किया है।”

पेलोसी एशियाई दौरे के अंतिम चरण में टोक्यो में है। उन्होंने ताइवान की भी यात्रा की थी, जिससे चीन काफी नाराज है। इसके जवाब में ड्रैगन ने द्वीप के आसपास अपना सबसे बड़ा सैन्य अभ्यास शुरू किया है। आपको बता दें कि चीन ताइवान को अपने क्षेत्र के हिस्से के रूप में देखता है। उसने सैनिकों के द्वारा एक दिन द्वीप को फिर से अपने साम्राज्य में मिलाने की कसम खाई है।

किशिदा ने कहा कि उन्होंने और पेलोसी ने उत्तर कोरिया, चीन और रूस से संबंधित मामलों के साथ-साथ परमाणु मुक्त दुनिया की दिशा में प्रयासों सहित कई राजनीतिक मुद्दों पर चर्चा की। पेलोसी अमेरिका के एक अन्य प्रमुख सहयोगी दक्षिण कोरिया से गुरुवार रात पहुंचीं, जहां उन्होंने उत्तरी सीमा का भी दौरा किया। 2015 के बाद जापान में यह उनका पहला मौका है।

गुरुवार से शुरू हुए सैन्य अभ्यास को लेकर टोक्यो ने बीजिंग के साथ राजनयिक विरोध दर्ज कराया है। जापान के सबसे दक्षिणी ओकिनावा क्षेत्र के हिस्से ताइवान के करीब हैं। टोक्यो और बीजिंग के बीच लंबे समय से चल रहे विवाद के केंद्र में टापू हैं। जापान का विशेष आर्थिक क्षेत्र (ईईजेड) की तटरेखा से 200 समुद्री मील तक फैला हुआ है।

यह पढ़े: अमेरिका और ताइवान से बौखलाया चीन यूरोप पर भी भड़का, कई देशों के राजदूतों को किया तलब