गर्भधारण के समय होने वाला Stress, शिशु पर डाल सकता है बुरा प्रभाव

एक अध्ययन में यह बात सामने आयी है कि यदि गर्भधारण के समय माताएं बहुत ज्यादा तनाव में रहती हैं तो, प्रसव के वक्त उनके बच्चे का वजन सामान्य से कम होता है।

जन्म के वक्त बच्चों के कम वजन और तनाव के बीच संबंध स्थापित करने वाला यह पहला अध्ययन है।

अमेरिका में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के अध्ययनकर्ताओं का कहना है कि सुबह उठने पर तनाव झेलने पर ज्यादातर लोगों के शरीर में कोर्टिसोल तनावग्रस्त होने पर शरीर की ओर से स्रावित हार्मोन की मात्रा बहुत ज्यादा होती है और वह स्तर दिन भर में कम होता है।

उनका कहना है, ऐसे कुछ लोगों में सुबह कोर्टिसोल का स्तर तो कम होता है और दिन भर में उसका क्षरण सामान्य से बहुत कम मात्रा में होता है।

इस नए अध्ययन में 142 महिलाओं का विशलेषण किया गया है जो कम्युनिटी चाइल्ड हेल्थ नेटवर्क द्वारा किए जा रहे विस्तृत अध्ययन का हिस्सा थीं। अध्ययन में यह देखा जा रहा था कि नए अभिभावकों और उनके बच्चों पर तनाव का क्या असर होता है।

उन्होंने बताया, अध्ययनकर्ताओं ने पाया कि तनाव में रहने वाली महिलाओं में सामान्य से कम वजन वाले बच्चों को जन्म देने की बहुत आशंका रहती है। यह पहला साक्ष्य है कि गर्भधारण से पहले भी माता में कोर्टिसोल का स्तर बच्चे के वजन पर प्रभाव भी डालता है।

यह भी पढ़ें:

नींद की गोली लेने से पहले जान लीजिए इन बातों को!

इन चीजों के सेवन से दूर हो जाती है खून की कमी!

Loading...