महिलाओं से संबंधित अपराधों में हो कड़ी कार्रवाई, रानी मौर्य ने दिए अन्य कई नर्देश, जानिए क्या

यूपी सरकार में महिला कल्याण, बाल विकास एवं पुष्टाहार मंत्री पुष्टाहार बेबी रानी मौर्य ने कहा कि दुष्कर्म के मामलों में प्राथमिकी तुरंत दर्ज कर कड़ी कार्रवाई करें और दोषी को सजा दिलाए। शादी के बाद महिलाओं को छोड़ने का मुद्दा गंभीर बताया और मामलों में जांच कर कड़ी कार्रवाई की जाए।

उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि हमारा उद्देश्य घर बसाने का है, उजाड़ने का नहीं। काउंसिलिंग व परामर्श के द्वारा प्रथम दृष्ट्या हल किया जाना चाहिए। मंत्री बेबी रानी मौर्य ने सरकार द्वारा विभिन्न विभागों के माध्यम से चलाने वाली जन कल्याणकारी योजनाओं का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए। जिससे आम जनमानस को इनकी जानकारी हो।

योजनाओं की जानकारी आमजन को कराते हुए उन्हें योजनाओं से लाभान्वित किया जाना चाहिए। उन्होंने निर्देश दिए कि महिलाओं से संबंधित अपराधों में अपराधियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि जनपद के कुपोषित एवं अति कुपोषित बच्चों को चिन्हित कर उन्हें सुपोषित किये जाने के कार्य में लापरवाही न बरती जाए

गंभीर श्रेणी के अति कुपोषित बच्चों को अधिकारियों द्वारा गोद लिए जाने की बात कही। मुख्य विकास अधिकारी विजय कुमार ने बताया कि जिले में टीबी के 2300 मरीजों को अधिकारियों द्वारा गोद लिया गया है। इनको पोषण उपलब्ध कराया जा रहा है, जिसकी मंत्री ने सराहना की।

उन्होंने बाल सेवा योजना के लाभार्थियों से निरन्तर संवाद करने के निर्देश दिए। मंत्री बेबी रानी मौर्य की अध्यक्षता में सर्किट हाउस सभागार में जिले के सामाजिक क्षेत्र से संबंधित विभागों की समीक्षा बैठक की। बैठक के दौरान सरकार द्वारा चलाई जा रही जन कल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा की गई।

उन्होंने मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना, कन्या सुमंगला योजना, निराश्रित महिला पेंशन योजना, सखी वन स्टाप सेंटर, राष्ट्रीय पोषण मिशन, मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना, वृद्धावस्था पेंशन, दिव्यांगजन पेंशन, छात्रवृत्ति, श्रमिक संबंधी योजना, मातृ वंदना योजना आदि योजनाओं की समीक्षा की।

मिशन शक्ति अभियान फेस 04 की भी जानकारी ली। तो वही एएसपी प्रीति यादव ने पुलिस विभाग द्वारा महिलाओं को जागरूक करने के लिए एवं उनकी समस्याएं सुनने के लिए महिला हेल्पडेस्क, महिला बीट इत्यादि के बारे में अवगत कराया। मंत्री ने महिला पुलिस कर्मियों से पीड़िताओं के साथ मधुर व्यवहार स्थापित करने के निर्देश दिए।

यह पढ़े:महाराष्ट्र में चल रही सियासी उठापटक के चलते गहलोत ने किया बढ़ा दावा, जानिए क्या कहा