कानों की सेहत का रखें ख्याल

कान हमारे शरीर का बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है। इसमें जरा सी इंफैक्शन होने पर बेचैनी और सुनने में गंभीर परेशानी भी हो सकती है। सामान्यतः कान में होने वाली छोटी-छोटी गंभीर समस्याओं को अनदेखा कर देेते है। मगर कानों में होने वाली कोई भी समस्या बहुत दर्दनाक हो सकती हैं लेकिन आप इसे मामूली समझ कर इग्नोर कर देते हैं। इसके कारण न सिर्फ आपको काम से पूर्ण्तः दुरी दूर बनानी पड़ती है बल्कि कई और प्रॉब्लम का सामना भी करना पड़ता है। इसलिए कानों की सेहत का ख्याल रखना भी बहुत आवश्यक है। आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स देंगे, जिसकी मदद से आप कानों को सेहतमंद रख सकते हैं।

1. कानों को रखें सूखा

स्विमर्स ईयर ऐसी गंभीर समस्या है, जो कई लोगों को परेशान करती है। जब कानों में पानी चला जाता है तो वहां बैक्टीरिया जमा होने का खतरा भी बहुत बढ़ जाता है। यह प्रॉब्लम किसी भी उम्र के लोगों को हो सकती है लेकिन अधिकतर यह समस्या महिलाओं को होती है।तैराकी के अलावा यह समस्या कानों की ज्यादा सफाई करना या इन ईयर हैडफोन के इस्तेमाल से भी हो सकती है। बेहतर होगा कि आप ऐसे हैडफोन का इस्तेमाल करें जो कानों के अंदर जाने की बजाए उसे पूर्ण्तः ढकते हो।

कोशिश करें कि कानों में पानी कभी न जाए और अगर चला तो उसे तौलिए या कपड़े को कान में डालने की कोशिश न करें। कानों को सुखाने के लिए बारी-बारी दोनों कानों की ओर सिर को झुकाएं। पानी स्वतः बाहर आ जाएगा। इसके अलावा कानों को सुखाने के लिए आप हेयरड्रायर को कूल सैटिंग पर करके भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

2. कॉटन बड्स का न करें इस्तेमाल

कान सुखाने के लिए आप कई बार कॉटन बड्स का उपयोग कर लेते हैं लेकिन यह सही नहीं है। इससे कानों को साफ करके अत्यधिक संतुष्टि महसूस हो सकती है परंतु ऐसा करते वक्त कान की वैक्स और अंदर जाकर फंस जाती है। इससे आपको गंभीर समस्याएं हो सकती है जैसे कि कम सुनना, ननिटस, वर्टीगो। कान में पानी जाने पर वह खुद-ब-खुद पूर्ण्तः साफ हो जाएंगे, इसके लिए कॉटन बड्स का इस्तेमाल न करें। अगर आप इसे साफ करना चाहते है को कान के डॉक्टर के पास जाए, जोकि इन्हें साफ और सुरक्षित ढंग से साफ कर सकते हैं।

3. बढ़ती उम्र में भी रखें कानों का ख्याल

बढ़ती उम्र के साथ कानों में भी अत्यधिक बदलाव होता है। ऐसे में आपको इसकी देखभाल में बदलान लाना चाहिए। हर साल कान 0.22 एम.एस की दर से बढ़ते हैं यानी 50 साल में काम 1 सै.मी तक बढ़ जाते हैं। इसके साथ ही आप ईयरवैक्स में भी महत्वपूर्ण बदलाव महसूस कर सकते हैं।

कानों को सेहतमंद रखने में ईयरवैक्स बहुत ही अहम भूमिका निभाते हैं। यह कानों के भीतरी हिस्सों को साफ और कीटाणुओं से पूर्ण्तः मुक्त रखते हैं। उम्र बढ़ने के साथ यह रूखे भी पड़ सकते हैं। ऐसे में आपको कानों का ख्याल रखने के लिए एक्सपर्ट से सलाह अवश्य लेनी चाहिए।