सेमीफाइनल में टीम इंडिया से हो गई थी बड़ी चूक, आखिरी ओवर की पेनल्टी पड़ सकती थी भारी

इंग्लैंड के खिलाफ कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 के सेमीफाइनल में टीम इंडिया जीतकर फाइनल में भले ही पहुंच गई हो, लेकिन टीम ने एक बड़ी गलती कर दी थी, जिसका खामियाजा टीम को भुगतना पड़ सकता था। यहां तक कि टीम के हाथ से मैच भी फिसल सकता था। हालांकि, अच्छी बात ये रही कि टीम ने 4 रन से रोमांचक मैच को जीता और भारतीय टीम ने राष्ट्रमंडल खेलों में एक पदक पक्का कर लिया।

दरअसल, भारतीय महिला क्रिकेट टीम पर स्लो ओवर रेट की वजह से पेनल्टी लगाई गई थी। भारतीय टीम तय समय में 20वें ओवर की पहली गेंद फेंक नहीं पाई थी। तय समय से भारतीय टीम दो ओवर पीछे थी और इसी वजह से इंग्लैंड के खिलाफ CWG 2022 के सेमीफाइनल में टीम इंडिया को पेनल्टी लगी। इस वजह से टीम के लिए सिर्फ तीन ही खिलाड़ी बाउंड्री लाइन पर हो सकते थे।

आखिरी ओवर में महज 13 रनों का बचाव कर रही टीम इंडिया के लिए 3 ही खिलाड़ी बाउंड्री लाइन पर थे, क्योंकि दो ओवर स्लो होने की वजह से दो और खिलाड़ी 25 गज के दायरे के बाहर नहीं हो सकते थे। जब आपके पास 13 रन बचाने के लिए हों और आपके तीन ही खिलाड़ी बाहर हों तो ज्यादातर मौकों पर नतीजा आपके हाथ से फिसलने के चांस रहेंगे, क्योंकि बल्लेबाज किसी भी दिशा को टारगेट कर सकता है।

हालांकि, गनीमत रही कि जो गेंद हवा में उछली वो 25 गज के दायरे में रही और आखिरी गेंद पर छक्का भी लगा, जहां शायद कैच भी हो सकता था, लेकिन आपके पास बाउंड्री लाइन पर उस जगह फील्डर नहीं था और न ही आप रख सकते थे, क्योंकि आप पेनल्टी झेल रहे थे। बता दें कि आईसीसी ने ये नियम पिछले साल लागू किया था, जो इंटरनेशनल क्रिकेट में जारी है और टीमों को इससे फायदा मिलता है।

यह पढ़े: आयरलैंड के खिलाफ टी20 सीरीज जीत के बाद दक्षिण अफ्रीकी कप्तान का बड़ा बयान