जम्मू-कश्मीर के DDC चुनाव में सरेंडर कर चुके आतंकवादी ने आजमाई किस्मत

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 खत्म होने के बाद वहां की आवो-हवा अब काफी बदल गई हैं। राज्य में पहली बार हुए जिला विकास परिषद (डीडीसी) चुनाव में लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया है। जिसमें सरेंडर कर चुके एक आतंकवादी ने भी अपनी उम्मीदवारी जताई हैं और प्रदेश के लोगों से हिंसा छोड़ शांति के रास्ते पर साथ चलने की अपील की है। रजौरी जिला के दरहाल मलकान सीट से चुनाव लड़ रहे पूर्व आतंकी मुनाफ मलिका ने शांति अपनाने की अपील की हैं।

मलिका ने कहा मैंने एक आंतकवादी संगठन के लिए सात वर्षों तक डिविजनल कमांडर के तौर पर काम किया हैं। इसलिए मैं आतंकवादियों से अपील करता हूं कि हिंसा का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा में शामिल हों जाए। बता दे जम्मू-कश्मीर में जिला विकास परिषद (डीडीसी) चुनाव शनिवार को संपन्न हो गया हैं। जिसमें करीब 51 प्रतिशत मतदान हुआ और अब मतों की गिनती 22 दिसंबर को होगी। जिन क्षेत्रों में मतदान हुआ है, वह प्रदेश के 18 जिलों में फैले हैं।

जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा वापस लिए जाने के बाद पहली बार चुनाव हुए हैं। इस दौरान कुछ मामूली घटनाओं को छोड़कर मतदान शांतिपूर्ण रहा हैं। पुंछ में एक उम्मीदवार को पथराव का सामना करना पड़ा और उनके सुरक्षाकर्मी ने भीड़ को भगाने के लिए हवा में गोलियां चलाई। इससे लोग तितर-बितर हो गए।

यह भी पढ़े: फिर से कांग्रेस अध्यक्ष बन सकते हैं राहुल गांधी, पार्टी बैठक से मिले संकेत
यह भी पढ़े: आइए जानते हैं, नाभि के पास पेट दर्द होने के कारण !