गंभीर समस्याओं का इलाज होता है इन पेड़ों की छाल से

प्राचीन काल से लोगों द्वारा पेड़ो का इस्तेमाल किया जा रहा है।  पेड़ो में बहुत से पोषक तत्व पाए जाते है।  इनकी पत्तियां व जड़ें शरीर के लिए अत्यंत फायदेमंद होती है।  पेड़ो की डालियों का सेवन करके हम अनेको समस्याओं से आसानी से राहत पा सकते है।

अर्जुन का पेड़

भारत के हर कोने पर अर्जुन का पेड़ पाया जाता है।  इसकी छाल के सेवन से अनेको प्रॉब्लम्स से छुटकारा पाया जा सकता है।  अर्जुन की छाल का पाउडर एक से डेढ चम्‍मच लें।  इसमें 2 गिलास पानी मिला लें और फिर उबाल लें। ठंडा होने पर रोज़ाना सुबह शाम इसका सेवन करें। ऐसा करने से ब्‍लॉक आर्टरीज़ ओपन हो जाएंगी और कोलेस्‍ट्रॉल नियंत्रित रहेगा।  इसके साथ ही आप रोज़ाना प्रातः शाम इस पेड़ की छाल के चूर्ण को खा सकती हैं या फिर इसकी चाय का सेवन कर सकती है। आप इसके पेड़ की छाल का काढ़ा भी पी सकते है।

नीम का पेड़

स्किन से जुडी समस्याओं से निजात पाने के लिए नीम के पेड़ की छाल का प्रयोग करें। नीम के पेड़ की छाल को आप अपने फोड़े, फुंसी, दाद, खुजली पर लगाएं।  बहुत जल्द फर्क महसूस होगा।  खाना खाने से पहले आप अवश्य 1 चम्मच नीम के पेड़ का चूर्ण लें।  ऐसा करने से डायबिटीज कंट्रोल में रहती है। नीम की पत्तियां भी शरीर के लिए अत्यंत लाभदायक होती है। इनकी पत्तियों को पानी में बॉइल कर लें फिर ठंडा होने पर इसका यूज़ करें।  ये आपको स्किन से जुडी प्रॉब्लम्स से राहत दिलाएगा।

बबूल का पेड़

बबूल का पेड़ पोषक तत्वों से भरपूर होता है।  इसके इस्तेमाल से मुंह की प्रॉब्लम्स से छुटकारा पाया जा सकता है।  यह महिलाओं में इनफर्टिलिटी और आदमियों में शुक्राणुओं की प्रॉब्लम से राहत दिलाता है। बबूल की छाल को पानी में एकसाथ बॉइल करके महिलाओं को पीना चाहिए।  ऐसा करने से पीरियड्स में ज्यादा खून नहीं आता।

इसके अलावा आप जली हुई स्किन पर बबूल के पेड़ के पाउडर में हल्का सा कोकोनट ऑइल मिक्स कर लें और इसे अप्प्लाई करें। बहुत फायदा मिलेगा।  बबूल के पेड़ की छाल के पाउडर से गरारे करने पर मुंह के छालों में बहुत लाभ मिलता है।

अशोक का पेड़

रात्रि में अशोक के वृक्ष की छाल को भिगो दें। फिर प्रातः इस पानी को पी लें। ऐसा करने से पीरियड्स में प्रॉब्लम नहीं होगी। इस पेड़ की छाल को आप फोड़े-फुंसी पर अप्प्लाई करें।