ड्रैगन फ्रूट का नाम बदल गुजरात सरकार ने किया ‘कमलम’, CM रुपाणी ने बताई वजह

भाजपा में सबसे पहले उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने शहरों और चौक चौराहों के नाम बदलने की प्रथा को जीवंत किया। इसके बाद अब यह पूरी पार्टी का मूलमंत्र बन चुका हैं। इस बार भाजपा की सरकार ने फल का नाम बदल दिया है। जी हां, गुजरात की रूपाणी सरकार ने अब ड्रैगन फ्रूट को नया नाम दिया हैं, जिसके तहत अब इस फल को ‘कमलम’ नाम से जाना जाएगा। सरकार द्वारा ड्रैगन फ्रूट के नाम को ‘कमलम’ में बदलने के लिए पेटेंट आवेदन किया गया है।

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने मंगलवार को संवाददाताओं से बातचीत के दौरान यह जानकारी दी हैं। बता डे ड्रैगन फ्रूट बड़े पैमाने पर कच्छ, नवसारी और सौराष्ट्र के विभिन्न हिस्सों में उगाया जाता है। सीएम ने कहा ड्रैगन फ्रूट का नाम आते ही हर कोई चीन के बारे में सोचने लगता हैं, इसलिए यह फैसला लिया गया हैं। रुपानी ने कहा किसानों के मुताबिक यह फ्रूट कमल जैसा लगता हैं, इसलिए इसका नाम ‘कमलम’ दिया गया हैं।

यहां ध्यान देने वाली बात है कि कमल भाजपा का चुनावी चिन्ह है और गुजरात में पार्टी मुख्यालय का नाम भी श्रीकमलम है। हालांकि, रूपाणी ने कहा कि ड्रैगन फ्रूट के नामाकरण में कुछ भी राजनीतिक नहीं है। सीएम ने बताया कि राज्य के शुष्क क्षेत्रों में पाया जाने वाला यह फल सभी फलों में सबसे महंगा होता हैं।

यह भी पढ़े: 1 घंटे में निपटा दो होटल की ‘बुलेट थाली’ और इनाम में ले जाओ नई रॉयल एनफील्ड
यह भी पढ़े: शादीशुदा का दूसरे से संबंध रखना अपराध, लिव इन रिलेशनशिप नहीं होगा: कोर्ट