चारधाम यात्रा करने आ रहे श्रद्धालुओं को मिली राहत, अब आसानी से हो सकेंगे दर्शन

चार धाम में श्रद्धालुओं के दर्शन का समय बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है। उत्तराखंड चार धाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड मंदिर में दर्शन का समय अब दोपहर 12 बजे की बजाय तीन बजे तक किये जाने पर विचार कर रहा हैं, जल्द ही इसका आधिकारिक एलान किया जाएगा। साथ ही श्रद्धालुओं के लिए रियायतें बढ़ाए जाने और नियमों को सरल किए जाने के प्रयास जारी है, जिससे अब श्रद्धालुओं की संख्या भी बढ़ने की उम्मीद है। इस दौरान कोविड नियम सख्त रहेंगे।

बता दे सामाजिक दूरी के तय मानक का पालन सुनिश्चित कराने को पूजा का समय बढ़ाया जा रहा है। बोर्ड फिलहाल रोजाना आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ाने पर विचार नहीं कर रहा है। यह मानक पहले की तरह ही रहेगा। श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ने पर पूजा का समय बढ़ाने के साथ ही सामाजिक दूरी के गोलों की संख्या भी बढ़ाई जाएगी। ताकि अधिक से अधिक लोगों को दर्शन का अवसर प्राप्त हो सकें। उत्तराखंड चार धाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के सीईओ रविनाथ रमन ने कहा कि रियायतें बढ़ने के बाद अब हेली सेवाओं से आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में भी इजाफा होगा।

चार धाम यात्रा मानक

श्रद्धालुओं को बोर्ड की वेबसाइट www.badrinath-kearnath.gov.in पर पंजीकरण कराना होगा। जिसमें फोटो आईडी, एड्रेस प्रूफ का दस्तावेज आदि अपलोड करने होंगे। यात्रा के दौरान मूल दस्तावेज के रूप में वही फोटो आईडी, एड्रेस प्रूफ अपने पास रखने होंगे, जो वेबसाइट पर अपलोड किये हैं। श्रद्धालुओं की निर्धारित जांच केंद्रों पर थर्मल स्क्रीनिंग की जायेगी। स्क्रीनिंग के दौरान कोई कोरोना पॉजिटिव पाया गया तो उसे यात्रा की अनुमति नहीं होगी।

ऐसी स्थिति में कोविड निगेटिव आने के बाद ही यात्रा की अनुमति दी जाएगी। हेलीकॉप्टर से आने वाले श्रद्धालुओं को वेबसाइट पर पंजीकरण अनिवार्य नहीं हैं। प्रतिदिन आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या क्रमशः बदरीनाथ में 1200, केदारनाथ में 800, गंगोत्री में 600 और यमुनोत्री में 400 रखी गई हैं।

यह भी पढ़े: उप्र में फिर खेला गया हैवानियत का खेल, छात्रा से गैंगरेप, कमर और पैर तोड़े, मौत
यह भी पढ़े: रवि किशन को मिली Y+ श्रेणी की सुरक्षा, ड्रग्स केस में की थी आवाज बुलंद